ताज़ा खबर
 

यूपी के वस्त्र उद्योग का केंद्र बनेगा गौतम बुद्ध नगर, यमुना एक्सप्रेस-वे में 200 एकड़ जमीन पर बनेगा विश्वस्तरीय अपैरल पार्क

उत्तर प्रदेश में एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) के शीर्षक से एक औद्योगिक नीति लागू हुई है। इस नीति के तहत गौतम बुद्ध नगर को रेडीमेड गारमेंट और अपैरल वर्ग में शामिल किया गया है।

Author नोएडा, 30 जुलाई। | July 31, 2018 4:31 AM
राज्य सरकार यहां तैयार होने वाले उत्पाद की ओडीओपी के तहत मार्केटिंग की भी व्यवस्था कराएगी

उत्तर प्रदेश में एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) के शीर्षक से एक औद्योगिक नीति लागू हुई है। इस नीति के तहत गौतम बुद्ध नगर को रेडीमेड गारमेंट और अपैरल वर्ग में शामिल किया गया है। यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक प्राधिकरण क्षेत्र में 200 एकड़ जमीन पर विश्वस्तरीय अपैरल पार्क विकसित किया जाएगा। अपैरल पार्क में कपड़ों से संबंधित कच्चे माल की उपलब्धता से लेकर उत्पाद के शोध और विकास तक की व्यवस्था होगी।

राज्य सरकार यहां तैयार होने वाले उत्पाद की ओडीओपी के तहत मार्केटिंग की भी व्यवस्था कराएगी। इसके लिए करीब 250 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है, जिससे करीब पांच लाख युवाओं को रोजगार मिलने की उम्मीद है। इसके अलावा नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम डिजाइन एंड मैन्युफैक्चरिंग (ईएसडीएम) क्षेत्र में इकाइयां लगेंगी, जहां ईएसडीएम उत्पाद बनाने वाली सहायक कंपनियां भी बड़ी संख्या में स्थापित होंगी। निवेश को आकर्षित करने के लिए ईएसडीएम क्षेत्र में कंपनियों को राज्य जीएसटी, ब्याज दर, जमीन आबंटन और स्टांप शुल्क में छूट दी जा रही है। प्राधिकरण अधिकारियों के मुताबिक, प्रदेश में औद्योगिक विकास को नए मुकाम पर पहुंचाने में नोएडा-ग्रेटर नोएडा अहम साबित होगा।

प्रदेश के कुल निवेश का करीब 25 फीसद हिस्सा अकेले नोएडा में होगा, जहां करीब 15 हजार करोड़ रुपए वाली आठ परियोजनाएं शुरू होने वाली हैं। इससे न केवल विकास और राजस्व को बढ़ाने में मदद मिलेगी बल्कि बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। विदेशों से आने वाले माल और निर्यात को सुगम बनाने के लिए डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के अलावा 200 एकड़ में मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट हब बनाने पर भी काम चल रहा है। विदेशों की तर्ज पर निर्यात क्षेत्रों की तरह ग्रेटर नोएडा इलाके में इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप बनाया जा रहा है। यहां की 750 एकड़ जमीन पर कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने इकाई स्थापित करने के लिए आवेदन किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App