ताज़ा खबर
 

यमुना एक्सप्रेस-वे : बेकाबू रफ्तार पर ई-चालान का वार

मौत के एक्सप्रेस-वे के रूप में बदनाम हो चुके यमुना एक्सप्रेस-वे पर शुरु हुई ई-चालान व्यवस्था बेहद कामयाब रही है।

Author नोएडा | Published on: April 20, 2018 5:55 AM
पहला ई-चालान जारी करते हुए उसे पहला अनलकी शख्स करार दिया है।

मौत के एक्सप्रेस-वे के रूप में बदनाम हो चुके यमुना एक्सप्रेस-वे पर शुरु हुई ई-चालान व्यवस्था बेहद कामयाब रही है। 16 अप्रैल को यह व्यवस्था शुरू हुई की गई। तब से निर्धारित से तेज रफ्तार में चलने वाले वाहनों की संख्या में लगातार कमी दर्ज हो रही है। ई-चालान कैसा है और कैसे निर्धारित गति से तेज रफ्तार में चलाने वाले तक पहुंच रहा है, इसका ट्वीट यूपी पुलिस ने किया है। गुरुवार को जारी हुए इस ट्वीट पहले ई-चालान को दर्शाया है। जिस वाहन का पहला ई-चालान हुआ है, उसे यूपी पुलिस ने पहला अनलकी (बदनसीब) शख्स बताया है। चालान की कॉपी को यूपी पुलिस ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर पोस्ट किया है।

दुर्घटनाओं में आई कमी

उधर, ई-चालान प्रणाली लागू होने के बाद लगातार दुर्घटनाओं और वाहनों की रफ्तार में कमी आ रही है। 16 अप्रैल को पहले दिन तेज रफ्तार पर कुल 179 ई-चालान हुए थे। उसकी संख्या दिन-ब दिन कम होती जा रही है। बुधवार को रफ्तार पर कुल 54 वाहनों के ई-चालान काटे गए हैं। खास बात ये है कि यमुना एक्सप्रेस-वे पर दुर्घटना होने का सबसे बड़ा कारण वाहनों की तेज रफ्तार है। इस पर रोक लगाने के लिए 16 अप्रैल को यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने 100 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा रफ्तार पर ऑटोमैटिक ई-चालान काटने की तकनीक का आरंभ किया।

पुलिस ने चालान जारी करते हुए कहा ‘पहला दुर्भाग्यशाली’

पहला ई-चालान जारी करते हुए उसे पहला अनलकी शख्स करार दिया है। हालांकि ई-चालान 16 अप्रैल को जारी हुआ था लेकिन आरोपी तक चालान पहुंचने के बाद इस पर ट्वीट किया गया है। चालान को यातायात विभाग के साथ भी साझा किया गया है। ई-चालान में वाहन चालकों से यातायात नियमों का पालन करने और तेज रफ्तार में नहीं चलाने की सलाह दी है। चालान के रूप में 400 रुपए भरने पड़ेंगे।

पुलिस का ट्वीट

रफ्तार पर रोक लगाएंगे ई-चालान ऐप

ई-चालान ऐप से वाहनों की तेज रफ्तार पर रोक लगाने का प्रयास किया जा रहा है। ई-चालान ऐप वाहन चालकों के मोबाइल से जुड़कर रफ्तार पर निगाह रखेगा। 100 किलोमीटर प्रति घंटा से ज्यादा रफ्तार होने पर स्वत: ही चालान कट जाएगा। वाहन की रफ्तार पर निगरानी रखने वाली यह व्यवस्था फिलहाल ग्रेटर-नोएडा से जेवर के बीच शुरू हुई है। अगले एक महीने में यह जेवर से आगरा तक चालू की जाएगी। एसपी ट्रैफिक अनिल कुमार झा ने बताया कि यमुना एक्सप्रेस-वे पर वाहनों की रफ्तार पर निगाह रखने के लिए शुरू हुई ई-चालान व्यवस्था से बेहतरीन परिणाम मिल रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पिता ने बेटी को शादी में दिया था जो सूटकेस, उसी में मिली पांच महीने की गर्भवती लड़की की लाश
2 विशेषः नोएडा के कचरे से दिल्ली में बनेगी बिजली
3 आरएसएस नेता को टीवी स्टूडियो के बाहर से उठा ले गई यूपी पुलिस, फिर बोली- गलती हो गई
ये पढ़ा क्या?
X
Testing git commit