ताज़ा खबर
 

नोएडा : दहेज के लिए गर्भवती को फैक्टरी में बंधक बनाया

पति की फैक्टरी में हाथ-पैर बंधे और मुंह पर टेप लगी हालत में 48 घंटे बाद मिली, सास, ससुर और ननद गिरफ्तार, पति व देवर फरार

Author नोएडा, 3 जून। | June 4, 2018 6:33 AM
सेक्टर-44 के छलेरा गांव में दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर ससुरालियों ने पांच महीने की गर्भवती को बंधक बना लिया।

सेक्टर-44 के छलेरा गांव में दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर ससुरालियों ने पांच महीने की गर्भवती को बंधक बना लिया। पुलिस ने करीब 48 घंटे बाद शनिवार देर रात पीड़िता को उसके पति की फैक्टरी से बरामद किया। पीड़िता के हाथ-पैर बंधे थे और उसके मुंह पर टेप लगा था। पीड़िता की गुमशुदगी की सूचना मिलने पर उसके परिजनों ने सुसराल पक्ष पर अपहरण कर हत्या का आरोप लगाते हुए थाना सेक्टर-39 में मामला दर्ज कराया था। बंधक बनाकर रखने की वजह से गर्भवती पीड़िता की हालत बेहद गंभीर थी। पुलिस ने उसे सेक्टर-27 के निजी अस्पताल में भर्ती कराया जहां डॉक्टरों ने उसकी हालत खतरे से बाहर बताई है। पुलिस ने नामजद ससुर, सास और ननद को गिरफ्तार कर लिया है।

सेक्टर-49 स्थित बरौला गांव में रहने वाले पवन चौहान की बेटी श्वेता की शादी छलेरा गांव में रहने वाले गौरव चौहान से दिसंबर 2017 में हुई थी। गौरव की छलेरा गांव में बोतलबंद पानी की फैक्टरी है। उसी परिसर में वह ई रिक्शा चार्ज करने का भी कारोबार भी चलाता है। बताया गया है कि पवन चौहान ने बेटी की शादी में अपनी हैसियत के अनुसार दान-दहेज दिया था लेकिन ससुराल पक्ष इससे संतुष्ट नहीं था। ससुराल पक्ष ने शादी के कुछ दिनों बाद ही अतिरिक्त दहेज की मांग को लेकर विवाहिता को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया था। गुरुवार रात 12 बजे श्वेता के ससुराल वालों ने मायके में फोन कर उसके आठ बजे से लापता होने की सूचना दी। उन्होंने श्वेता पर बगैर कुछ बताए घर से चले जाने का आरोप भी लगाया।

श्वेता के परिजन तुरंत ही ससुराल पहुंचे और पूरी रात उसकी तलाश करते रहे। काफी खोजबीन के बाद भी श्वेता का कोई सुराग नहीं लगा। तब श्वेता के पिता पवन ने उसके पति गौरव, ससुर चरण सिंह, सास बबली, देवर मोनी और ननद सिम्मी पर अपहरण कर हत्या का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया। मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने श्वेता की तलाश शुरू की। ससुराल पक्ष से पूछताछ में गोलमोल जवाब मिलने पर पुलिस को शक हुआ। शनिवार रात करीब 10:15 बजे पुलिस ने गौरव की फैक्टरी में छापेमारी की जहां एक अंधेरे और दमघोटू कमरे में श्वेता फर्श पर पड़ी हुई मिली। उसके हाथ पीछे की तरफ बंधे हुए थे। पैर भी बंधे हुए थे और मुंह पर टेप लगा था। पुलिस ने मुंह से टेप हटाकर और चाकू से रस्सी काटकर उसे आजाद कराया। लेकिन दम घुटने और गर्भवती होने की वजह से उसकी हालत बेहद गंभीर थी। उसे तुरंत निजी अस्पताल में भर्ती कराता। पुलिस ने नामजद ससुर, सास और ननद को गिरफ्तार कर लिया। पति और देवर अभी फरार हैं। एसपी सिटी अरुण कुमार ने बताया कि गोपनीय सूचना के आधार पर पुलिस पीड़िता तक पहुंची और छुड़ाया। फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

  •  पति की फैक्टरी में हाथ-पैर बंधे और मुंह पर टेप लगी हालत में 48 घंटे बाद मिली
  • सास, ससुर और ननद गिरफ्तार, पति व देवर फरार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App