ताज़ा खबर
 

मॉब लिंचिंग से बचने को अपनाया नया तरीका! वाहन पर तिरंगा लगा चल रहे कैटल ट्रांसपोर्टर

इस वीडियो में एक वाहन में एक जानवर को ले जाया जा रहा है। वाहन के आगे दो तिरंगा झंड़ा लगा हुआ है और ये वाहन सड़क पर तेज रफ्तार से भाग रही है। इस वीडियो को पीछे से रिकॉर्ड किया गया है।

जानवर ले जा रहे एक वाहन पर आगे दो राष्ट्रीय झंडे बंधे देखे गये। फोटो-twitter/@shantanunandan2

देश के अलग अलग जगहों पर जानवरों को ले जाने के दौरान मॉब लिंचिंग की घटनाओं से जानवर व्यापारी सहमे हुए हैं। पिछले कुछ महीनों में उत्तर प्रदेश, राजस्थान और झारखंड में मॉब लिंचिंग की घटनाएं हुई थी। हाल ही में राजस्थान के अलवर में रात को गाय ले जा रहे रकबर खान पर कुछ लोगों ने हमला बोल दिया था। इसके बाद अस्पताल में रकबर की खान की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। उत्तर प्रदेश के हापुड़ में भी जानवरों को खरीदने जा रहे एक शख्स पर लोगों ने हमला कर दिया था। जिसमें शख्स की मौत हो गई थी। इन घटनाओं से सहमे जानवार ढोने वाले वाहनों ने एक नया तरीका खोजा है। उत्तर प्रदेश में जानवर ले जाने के लिए इस्तेमाल किये जा रहे गाडियों में तिरंगा लगा दिया गया है।

एक पत्रकार ने इससे जुड़ा एक वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है। पत्रकार शांतनू एन शर्मा ने लिखा है कि उन्होंने इस वीडियो को ग्रेटर नोएडा में रिकॉर्ड किया है। इस वीडियो में एक वाहन में एक जानवर को ले जाया जा रहा है। वाहन के आगे दो तिरंगा झंड़ा लगा हुआ है और ये वाहन सड़क पर तेज रफ्तार से भाग रही है। इस वीडियो को वाहन के पीछे से रिकॉर्ड किया गया है।

बता दें कि राजस्थान के अलवर जिले में 20 जुलाई को कथित गोरक्षकों ने 28 वर्षीय एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। मेवात निवासी रकबर खान अन्य व्यक्ति के साथ पशुओं को ले जा रहा था, तभी अलवर में लालावंडी गांव के समीप ग्रामीणों के एक समूह ने उसे रोक लिया और उसकी बेरहमी से पिटाई की। पुलिस के मुताबिक जब पुलिस दल घटनास्थल पर पहुंचा तो उन्होंने कीचड़ में खान को घायल अवस्था में पड़ा पाया। वहां दो लोग दो गायों के साथ खड़े थे। एक पीड़ित ने बताया कि वह लाडपुर से गायों को खरीद कर लाया था और वे अपने गांव जा रहे थे, तभी उन लोगों ने उन्हें गो तस्कर समझ लिया और उनपर हमला कर दिया। राजस्थान के अलवर में ही पिछले साल अप्रैल में पहलू खान नाम के शख्स की जानवर ले जाते वक्त हत्या कर दी गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App