ताज़ा खबर
 

पिता ने बेटी को शादी में दिया था जो सूटकेस, उसी में मिली पांच महीने की गर्भवती लड़की की लाश

स्थानीय पुलिस चौकी के इंचार्ज अरविंद शर्मा ने बताया कि कंट्रोल रूम में किसी अनजान फोन के जरिए लावारिस सूटकेस की जानकारी दी गई। वारदात स्थल पर पहुंचकर सूटकेस खोला तो उसमें महिला का शव था।
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के इंद्रापुरम में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-24 पर बुधवार (11 अप्रैल, 2018) को पांच महीने की गर्भवती महिला की लाश एक सूटकेस में मिली है। कुछ दिनों पहले ही महिला के पति ने उसके लापता होने की शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराई थी। मामले में पुलिस ने डीएलएफ मॉल के गारमेंट्स शोरूम में काम करने वाले महिला के पति को ही शिकायत के बाद हिरासत में ले लिया है। महिला के पिता का आरोप है कि अधिक दहेज नहीं लाने पर उसकी हत्या कर दी गई। पीड़ित पिता ने बताया कि उनकी पांच माह की गर्भवती बेटी का शव उसी सूटकेस में मिला जो उन्होंने विवाह में उपहार स्वरूप दिया था।

खबर के मुताबिक कुछ महीने के प्रेम के चलते मृतक माला और शिवम ने पिछले साल ही नवंबर में शादी की थी। शिवम के परिजन इस शादी के खिलाफ थे। पुलिस ने बताया कि माला का शव सूटकेस में रखने के लिए उसका शरीर जबरन मोड़कर रखा गया। पुलिस को शक है कि माला की हत्या तौलिए से गला दबाकर की गई थी।

स्थानीय पुलिस चौकी के इंचार्ज अरविंद शर्मा ने बताया कि कंट्रोल रूम में किसी अनजान फोन के जरिए लावारिस सूटकेस की जानकारी दी गई। वारदात स्थल पर पहुंचकर सूटकेस खोला तो उसमें महिला का शव था। उसने काली पजामी और सूती टॉप पहना था। पहली नजर में मालूम होता है कि दो-तीन दिन पहले तौलिए से गला दबाकर हत्या की गई थी।

खबर के मुताबिक पुलिस ने महज शिवम को हिरासत में नहीं लिया है बल्कि उसे माता-पिता और दो भाईयों के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज मामले में जांच शुरू कर दी है।

बता दें कि शिवम ने 7 अप्रैल को पुलिस में दी अपनी शिकायत में पत्नी के लापता होनी की बात कही थी। मामले में जब एक न्यूज वेबसाइट ने शिवम से पूछा तो उसने बताया कि शनिवार को पत्नी को गुम होनी की शिकायत दर्ज कराई थी। शिवम का आरोप है कि पत्नी की हत्या में कुछ लोग शामिल हैं। हत्याकांड में खुद के शामिल होने के आरोपों से उसने इनकार किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App