ताज़ा खबर
 

योगी सरकार के आदेश में फंसी मुस्लिम की बेटी की शादी, निकाह में मीट परोसने के लिए लगा रहा थाने के चक्कर

शादी की सारी तैयारियां हो चुकी हैं। बारात यूपी के ही मेरठ से आ रही है। बारातियों ने मीट खाने के फरमाइश की है, लेकिन परिवार को डर सता रहा है कि अगर वह बेटी की शादी में मीट बनवाते हैं तो कोई परेशानी न खड़ी हो जाए।

Author Updated: April 17, 2017 5:48 PM
मीट खाने को लेकर बीवी ने मांगा तलाक। (Representative Image)

यूपी के दादरी में एक मुस्लिम परिवार अपनी बेटी की निकाह में बारातियों को मीट खिलाने के लिए थाने की चक्कर लगा रहा है। वह पुलिस के पास जा रहा है कि ताकि बेटी की शादी में मीट बनाने की इजाजत मिल सके। दादरी के रज्जाक कालोनी में रहने वाले नजर मोहम्मद पेशे से कारपेंटर है। मंगलवार को उनकी बेटी की शादी है। निकाह में बारातियों की ओर से मीट बनवाने की फरमाइश की गई है। जिसके चलते उनकी सामने परेशानी खड़ी हो गई है। उन्हें डर है कि अगर बिना इजाजत के वह बेटी की निकाह में भैसे का मीट बनवाते हैं तो कहीं पुलिस उन्हें गिरफ्तार न कर ले। उन्होंने यह फैसला अवैध बूचड़खानों पर पाबंदी, अवैध मीट की दुकानों को बंद करने के आदेश और गौ रक्षकों द्वारा किए जाने वाले व्यवहार के चलते उन्हें यह कदम उठाना पड़ा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शादी की सारी तैयारियां हो चुकी हैं। बारात यूपी के ही मेरठ से आ रही है। बारातियों ने मीट खाने के फरमाइश की है, लेकिन परिवार को डर सता रहा है कि अगर वह बेटी की शादी में मीट बनवाते हैं तो कोई परेशानी न खड़ी हो जाए। नजर मोहम्मद के परिवार पास एक भैस है, जिसे वह कुर्बान करना चाहते हैं। लेकिन वह चाहते हैं निकाह में मीट काटने और परोसने के लिए उन्हें पुलिस और प्रशासन की ओर से लिखित अनुमति प्रदान की जाए। हालांकि दादरी नगर निगम की ओर से उन्हें मैखिक रूप से निकाह में मीट परोसने की इजाजत दे दी गई है।

गौरतलब है कि साल 2015 में ही दादरी में एक गांव में बीफ के शक में अखलाक की हत्या कर दी गई थी और उसके बेटे को बुरी तरह से पीटा गया था। हाल ही में राजस्थान के अलवर में भी ऐसी ही घटना सामने आई थी। कथित तौर पर गौरक्षकों ने अवैध रूप से गाय ले जाने पर पहलू खान नाम के शख्स के पिटाई की थी, जिसके बाद इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने इस मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार किया था। साथ ही पहलू खान के खिलाफ भी अवैध रुप से गायें ले जाने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। FIR में लिखा है कि उसके पास गाय की खरीद के वैध दस्तावेज नहीं थे। इस घटना का वीडियो भी सामने आया था। इस पर राज्य के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा था, “पहलू खान के पास गाय को ले जाने के लिए वैध दस्तावेज नहीं थे। एक सब डिविजनल ऑफिसर के अलावा कोई और दूसरा अधिकारी गाय को ले जाने के लिए अधिकृत नहीं कर सकता है।”

दादरी हत्याकांड मामला: परिवार ने मांगें पूरी न होने तक मृतक के शव का दाह संस्कार करने से इंकार किया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 यूपी: कैराना में हिंदुओं को “आतंकित और पलायन के लिए मजबूर” करने वाले मोहम्मद फुरकान को पुलिस ने पकड़ा
2 योगी राज में भाजपाइयों की दबंगई, बीजेपी नेता के बेटे की गाड़ी रोकने पर इंस्पेक्टर और दरोगा से हाथापाई, वर्दी नोच डाली
3 मेरठ: मेयर का पार्षदों को वंदे मातरम गाने का निर्देश, मुस्लिम सदस्यों ने मना किया तो बीजेपी वाले बोले- हिंदुस्तान में रहना है तो वंदे मातरम कहना होगा