ताज़ा खबर
 

वृंदावन: साधु के वेश में रह रहे बांग्‍लादेशी गिरफ्तार, बनवा लिया था फर्जी आधार, पासपोर्ट

ये कोई पहली बार नहीं है जब बांग्लादेशी युवकों को मथुरा जिले से गिरफ्तार किया गया हो। मथुरा पुलिस ने बीते कुछ वक्त में ही वृंदावन में अवैध रूप से रह रहे 50 से ज्यादा बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है।

Author November 26, 2018 7:11 AM
मथुरा पुलिस ने किया अवैध बांग्लादेशी नागरिक को गिरफ्तार। फोटो- Twitter/ @mathurapolice

भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा इन दिनों अवैध बांग्लादेशी प्रवासियों का ठिकाना बन रही है। ये खुलासा हाल ही में पुलिस और स्थानीय खुफिया इकाई के द्वारा मारे गए ताबड़तोड़ छापों से हुआ है। ये सभी प्रवासी म​थुरा के इस्कॉन मंदिर में भेष बदलकर कई सालों से रह रहे थे। इनमें से कई ने तो अपने पक्के दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड और नागरिकता के सारे दस्तावेज भी बनवा लिए थे। अब पुलिस पकड़े गए लोगों से ही पूछताछ के आधार पर ही बड़े एक्शन के मूड में है।

गुरुवार (22 नवंबर, 2018) को मथुरा पुलिस ने एलआईयू की टिप पर एक बांग्लादेशी युवक को वृंदावन से गिरफ्तार किया था। ये युवक अंतरराष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ (इस्कॉन) के मंदिर में कृष्ण भक्त के तौर पर रह रहा था। पुलिस का आरोप है कि गिरफ्तार युवक के ऊपर भारत में अवैध रूप से घुसपैठ करने और रहने का आरोप है। पुलिस को युवक से तलाशी के दौरान फर्जी दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, पासपोर्ट और पैन कार्ड भी मिले हैं।

पुलिस ने मुताबिक, गिरफ्तार 35 वर्षीय युवक ने अपना नाम फाल्गुन विकास वैद बताया है। वह भारत में साल 2004 में आया था जबकि वह वृंदावन में साल 2010 से रह रहा था। इससे पहले वह मायापुर और उज्जैन में भी रहा है। आरोपी युवक ने पुलिस को बताया कि वह भारतीय सीमा पर बिचौलिए को 500 रुपये की रिश्वत चुकाकर भारत में घुस आया था।

गिरफ्तार आरोपी युवक बांग्लादेश के चितगांव का रहने वाला है और भारत में पवित्र दास के फर्जी नाम से रह रहा है। उसके पास से पश्चिम बंगाल का बना हुआ फर्जी जन्म प्रमाणपत्र भी पाया गया है। अब पुलिस गिरफ्तार युवक से जानकारी लेकर कृष्ण भक्तों के भेष में रह रहे बांग्लादेशियों की गिरफ्तारी की कोशिश कर रही है। पुलिस ने गिरफ्तार किए गए ​बांग्लादेशी युवक फाल्गुन विकास वैद को आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471 और विदेशी नागरिक कानून, 1946 की धारा 14 के तहत आरोपी बनाकर जेल भेज दिया है। पुलिस के मुताबिक, आरोपी युवक ने भारतीय नागरिकता स्थापित करने के लिए गलत दस्तावेज खरीदने की बात स्वीकार कर ली है।

बता दें कि ये कोई पहली बार नहीं है जब बांग्लादेशी युवकों को मथुरा जिले से गिरफ्तार किया गया हो। मथुरा पुलिस ने बीते कुछ वक्त में ही वृंदावन में अवैध रूप से रह रहे 50 से ज्यादा बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। बीते 8 अक्टूबर को, पुलिस ने 16 बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया था। इन सभी के पास से आधार कार्ड और वोटर कार्ड भी बरामद किए गए थे। इन्हीं के सहारे ये लोग सरकारी कार्यालयों में जाकर अपनी नागरिकता को वैधानिक घोषित करने की कोशिश में लगे हैं।

12 सितंबर को, यूपी पुलिस ने खुफिया विभाग की सूचना के आधार पर इस्कॉन मंदिर से दो बांग्लादेशी युवकों को गिरफ्तार किया था। जबकि 1 जुलाई को मथुरा पुलिस ने 13 अवैध बांग्लादेशी प्रवासियों को गिरफ्तार किया था। इन बांग्लादेशियों में पांच महिलाएं और चार बच्चे थे। इन सभी के पास से वैध आधार और वोटर कार्ड पाए गए थे। बीते 12 अप्रैल को 23 बांग्लादेशियों को वैध पासपोर्ट और अन्य दस्तावेजों के बिना गिरफ्तार किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X