ताज़ा खबर
 

10 करोड़ लगाकर मायावती के बनवाए स्मारकों-पार्कों को फिर से चमकाएगी योगी आदित्य नाथ सरकार

लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) सेक्रेटरी जयशंकर दुबे ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि कांशीराम स्मारक की बत्तियों को सही करने का काम शुरू भी हो चुका है।

Author Updated: May 22, 2017 2:56 PM
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (PTI)

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्य नाथ सरकार ने मायावती सरकार (2007-2012) के दौरान बनवाए गए पार्कों और स्मारकों के जीर्णोद्धार के लिए करीब 10 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है। इस बजट से इन पार्कों और स्मारकों के मरम्मत और बाकी अधूरे निर्माण कार्य पूरे किए जाएंगे। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख और राज्य की पूर्व सीएम मायावती आरोप लगाती रही हैं कि अखिलेश यादव सरकार छह हजार करोड़ रुपये से दलित नेताओं के सम्मान में बनवाए गए इन पार्कों और स्मारकों की उपेक्षा करती रही है। 13 मई को मायावती ने कहा था कि अगर योगी आदित्य नाथ कांशीराम और उनके आदर्शों की परवाह करते हैं तो उन्हें इन स्मारकों का ख्याल रखना चाहिए।

लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) सेक्रेटरी जयशंकर दुबे ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि कांशीराम स्मारक की बत्तियों को सही करने का काम शुरू भी हो चुका है। दुबे ने बताया कि दूसरे स्मारकों का काम भी जल्द शुरू हो जाएगा और काम का ठेका ई-टेंडरिंग से दिया जाएगा। ये पैसा मायावती द्वारा इस मद के लिए बनाए गए 120 करोड़ रुपये के फंड से अावंटित किया जाएगा। एलडीए के आधिकारियों के अनुसार पिछले कई सालों से इन पार्कों-स्मारकों की मरम्मद के लिए पैसा आवंटित नहीं किया गया था।

दुबे ने इंडिय एक्सप्रेस को बताया, “पहले फेज में इन पार्कों और स्मारकों की बत्तियां ठीक की जाएंगी। फव्वारों की भी मरम्मत की जाएगी। जो पत्थर टूट गए हैं उन्हें बदला जाएगा। हरित क्षेत्र सिंचाई के बिना सूख गया था, उसे ठीक किया जाएगा। इन इमारतों में लगे लाइट बल्ब और हैलोजन लाइटों को भी बदला जाएगा।” पूर्ववर्ती अखिलेश यादव सरकार ने “ऊर्जा की बचत” करने के लिए इन पार्कों-स्मारकों की बिजली बंद करवा दी थी।

मायावती सरकार ने भीमराव अंबेडकर सामाजिक परिवर्तन स्थल, अंबेडकर सामाजिक परिवर्तन स्थल, अंबेडकर विहार, अंबेडकर गोमती विहार खंड एक और खंडो दो, कांशीराम ग्रीन (इको) गार्डेन और कांशीराम स्मारक स्थल इत्यादि का निर्माण करवाया था। इनमें से ज्यादातर का निर्माण यूपी राजकीय निर्माण निगम (यूपीआरएनएन) करवाया था। एलडीए ने इनके निर्माण में नोडल एजेंसी की भूमिका निभायी थी। अखिलेश यादव सरकार ने आरोप लगाया था कि इन पार्कों-स्मारकों के निर्माण में वित्तीय धांधली हुई लेकिन बसपा ने इससे इनकार किया था।

योगी आदित्य नाथ सरकार ने बुद्ध विहार शांति उपवन में आने वाले बौद्ध भिक्षुओं के भोजन के लिए भी सात लाख रुपये का बजट आवंटित किया है। ये पैसा अगले सात महीने के खर्च के लिए जारी किया जा रहा है। ये उपवन लखनऊ के आलमबाग में कांशीराम स्मृतिस्थल के सामने वीआईपी रोड पर स्थित है।

वीडियो- गोरखपुर दंगा केस: हाईकोर्ट ने रोका क्लोजर रिपोर्ट पर फैसला, योगी सरकार ने नहीं दी थी केस पर इजाजत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सड़क पर घायल पड़ा था शख्स, नहीं आई एंबुलेंस तो योगी के मंत्री ने खुद पहुंचाया अस्पताल
2 अगर RSS ना होता तो पाकिस्तान के कब्जे में होते प. बंगाल, पंजाब और कश्मीर: योगी आदित्यनाथ
3 मथुरा: ज्वैलर्स हत्याकांड में 5 दिन बाद मिली पुलिस को कामयाबी, गिरफ्तार किए 5 आरोपी