ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी की यात्रा से कांग्रेस कार्यकर्ता और जनता कंफ्यूज, मुस्लिम ने पूछा- किसान यात्रा में बुनकर के लिए क्‍या है

लोगों को संदेह है कि इस यात्रा का फोकस क्‍या वाकई में किसान है। क्‍योंकि राहुल गांधी के भाषणों में किसानों के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला गया है।

Author लखनऊ | Updated: September 13, 2016 11:31 AM
कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने ‘देवरिया से दिल्‍ली किसान महायात्रा’ का पहला चरण रविवार को पूरा कर लिया। (Photo Source: AICC Media)

कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने ‘देवरिया से दिल्‍ली किसान महायात्रा’ का पहला चरण रविवार को पूरा कर लिया। इस दौरान उन्‍होंने पूर्वी उत्‍तर प्रदेश के 12 जिलों में 824 किलोमीटर का सफर किया। लेकिन सुर्खियों में रहने के बावजूद जनता और कांग्रेस कार्यकर्ता यूपी विधानसभा चुनावों में पार्टी की रणनीति को लेकर कंफ्यूज हैं। लोगों को संदेह है कि इस यात्रा का फोकस क्‍या वाकई में किसान है। क्‍योंकि राहुल गांधी के भाषणों में किसानों के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला गया है। राहुल ने पीएम मोदी की विदेश यात्राओं, उनके महंगे सूट, चुनाव से पहले काला धन लाने और रोजगार देने के वादों का जिक्र किया है। उनके नारे ‘जनता त्रस्‍त, मोदी मस्‍त’ को जौनपुर और मऊ जैसे अल्‍पसंख्‍यक बहुल इलाकों में अच्‍छा रेस्‍पॉन्‍स मिला है लेकिन भीड़ में मौजूद ज्‍यादातर लोग अब भी तय नहीं कर पाए हैं कि वोट किसे देना है।

जौनपुर में यात्रा के दौरान राहुल ने मोदी के बारे में बहुत कुछ कहा। यहां पर एक मुस्लिम ने पूछा, ”वो सब तो ठीक है पर किसान यात्रा में बुनकर के लिए क्‍या है।” हालांकि उसकी आवाज राहुल तक नहीं पहुंची। वहीं राहुल पीएम के सूट के बारे में बोलते रहे। एक दूसरी समस्‍या यह है कि यह समझ नहीं आ रहा है कि कांग्रेस किन तक अपनी पहुंच बनाना चाहती है। राहुल सबको अपने साथ लेकर चलने की बात करते हैं, एक दिन वे हनुमानगढ़ी में पूजा करते हैं तो अगले दिन जौनपुर में मदरसे में लंच करते दिखते हैं। इसके बाद उन्‍होंने ब्राह्मण समाज पूजा में हिस्‍सा लिया वहां उन्‍होंने माथे पर चंदन का टीका लगाया ओर मंत्र पढ़े। उन्‍होंने अंबेडकर की मूर्ति पर माला चढ़ाई और दो दलितों के घर पर खाना भी खाया।

किसान यात्रा में बोले राहुल गांधी- मोदी सेल्फी लेता है, मस्ती करता है इसकी मस्ती कम करनी है

खाट पर चर्चा का उद्देश्‍य भी पूरा होता नहीं दिख रहा। ज्‍यादातर खाट सभाएं शाम छह बजे बाद हो रही हैं, इनमें न तो जनता और न राहुल बातचीत करने के उत्‍सुक दिखते हैं। खाट सभा केवल औपचारिकता दिखती है। खाट सभा के दौरान राहुल के पास किसी बात पर चर्चा करने के लिए बहुत कम समय होता है। इसके कारण वह किसानों से ‘कर्ज माफी, बिजली के बिल कम करने और समर्थन मूल्‍य बढ़ाने’ के अभियान पर मदद मांगते दिखते हैं। हालांकि इस दौरान भी वे मोदी को निशाना बनाते रहते हैं।

राहुल गांधी की सभा के लिए प्रशांत किशोर की संस्‍था ने मंगवाई 4,000 खाट, एक हजार हो गईं चाेरी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 1500 किलो वजन वाला 11 लाख का भैंसा बाहुबली, लेता है 20 किलो सेव और 20 लीटर दूध की डेली डाइट
2 सीबीआइ जांच की तलवार के बाद दो मंत्री बर्खास्त
3 उत्तर प्रदेश विस चुनाव: बसपा से विधायकों का पलायन जारी, चार एमएलए भाजपा में शामिल