ताज़ा खबर
 

भाजपा के खिलाफ जारी बुकलेट में कांग्रेस ने कर दी बड़ी गलती, कश्मीर को बताया ‘भारत अधिकृत कश्मीर’

इस बुकलेट को भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के तीन साल पूरे होने पर जारी किया गया है

16 पेज की इस बुकलेट में 11वें पन्ने पर चीन-पाकिस्तान इकॉनमिक कॉरिडॉर (CPEC) का जिक्र किया गया है (Photo: ANI)

उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने शनिवार (03 मई) को एक बुकलेट जारी की जिसमें भीषण गलती करते हुए कश्मीर को ‘भारत अधिकृत कश्मीर’ (Indian Occupied Kashmir) बता दिया है। इस बुकलेट को भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के तीन साल पूरे होने पर जारी किया गया है। बुकलेट का विमोचन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और राज बब्बर ने लखनऊ में किया।

16 पेज की इस बुकलेट में 11वें पन्ने पर चीन-पाकिस्तान इकॉनमिक कॉरिडॉर (CPEC) का जिक्र किया गया है और एक मैप दिखाया गया है। इस मैप में कश्मीर के इलाके को ‘भारत अधिकृत कश्मीर’ बताया गया है। मैप के साथ लिखा गया है कि 54 बिलियन डॉलर का चीन-पाकिस्तान इकॉनमिक कॉरिडॉर पाक अधिकृत कश्मीर से होते हुए बनाया गया है, जो अरब सागर में ग्वादर पोर्ट को चीन से जोड़ता है। क्या इससे पीओके का अभिन्न भारत का हिस्सा होने पर प्रश्नचिन्ह नहीं लग गया है?

बुकलेट को जारी करते हुए गुलाम नबी आजाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि राजग सरकार के कार्यकाल में पिछले तीन साल के दौरान देश के 578 जवान शहीद हुए और 877 नागरिक मारे गए हैं। उन्होंने कहा, “अकेले जम्मू-कश्मीर में 203 जवान शहीद हुए, पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर में 1343 बार घुसपैठ की तथा छह महीनों में तीन बार हमारे छह जवानों के शव क्षतविक्षत किए गए।” उन्होंने कहा, “पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में जब दो जवानों के शव क्षतविक्षत किए गए थे, तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 के अपने चुनावी भाषणों में पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की बात कही थी। लेकिन अब तो पाकिस्तान के साथ आम, शाल और साड़ी का आदान प्रदान हो रहा है।”

उन्होंने आरोप लगाया कि राजग सरकार में सुरक्षा पर बड़ी-बड़ी बातें की गई, लेकिन कोई ठोस काम नहीं किया गया। जब मोदी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार की हैसियत से चुनावी रैलियों को संबोधित करते थे, तो देश की सुरक्षा को लेकर बड़ी-बड़ी बाते करते थे और कांग्रेस सरकार को घेरते थे।

मोदी के नोटबंदी का असर, 7.1% रही सालाना विकास दर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App