ताज़ा खबर
 

70 लाख लोगों को रोजगार देंगे यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, बोले- प्रदेश में अपार सम्भावनाएं

उन्होंने कहा कि इनमें से 10 लाख लोगों को रोजगार व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के माध्यम से दिया जाना है।

Author July 15, 2017 9:15 PM
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (PTI File Photo)

उत्तर प्रदेश सरकार अगले पांच साल में 70 लाख लोगों को रोजगार देने का लक्ष्य लेकर चल रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को तृतीय विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में कहा, ”उत्तर प्रदेश में अपार सम्भावनाएं हैं। आगामी पांच वर्षों में प्रदेश सरकार का 70 लाख व्यक्तियों को रोजगार देने का लक्ष्य है।” उन्होंने कहा कि इनमें से 10 लाख लोगों को रोजगार व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के माध्यम से दिया जाना है। योगी ने कहा कि इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कृषि, डेयरी, लघु उद्योग, औद्योगिक विकास आदि सभी विभागों को बेहतर समन्वय के साथ प्रयास करने की आवश्यकता है।

सीएम ने कार्यक्रम में कहा ”वर्तमान समय में रेडीमेड गारमेन्ट, मोबाइल रिपेयरिंग और फूड प्रोसेसिंग क्षेत्रों में रोजगार की बड़ी सम्भावनाएं हैं। इन क्षेत्रों में कौशल विकास के प्रयास होने चाहिए। नौजवानों को कौशल विकास से होने वाले लाभ के प्रति जागरूक किए जाने की भी आवश्यकता है।” उन्होंने कहा कि कृषि के बाद टेक्सटाइल ही सबसे अधिक रोजगार मुहैया कराने वाला क्षेत्र है। प्रदेश में इस क्षेत्र में विकास की व्यापक सम्भावनाएं हैं। प्रदेश में बंद टेक्सटाइल मिलों को संचालित किए जाने की जरूरत है। इससे प्रदेश में बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA1 Dual 32 GB (White)
    ₹ 17895 MRP ₹ 20990 -15%
    ₹1790 Cashback
  • Honor 7X 32 GB Black
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹0 Cashback

योगी ने कहा, ”मेरा मानना है कि धरती पर कोई भी अयोग्य नहीं है। केवल ऐसे योजक की आवश्यकता है, जो उसे दिशा दे सके। राज्य सरकार के व्यावसायिक शिक्षा एवं प्राविधिक शिक्षा विभाग देश के सबसे ज्यादा युवा आबादी वाले प्रदेश के नौजवानों को कौशल विकास के माध्यम से दिशा देने का महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि प्रतिदिन अनेक सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, लेकिन ट्रैफिक नियमों की पूरी जानकारी देकर कुशल ड्राइवर बनाने अथवा पारम्परिक रूप से राजमिस्त्री, कारपेन्टर आदि का काम करने वालों को आधुनिक तकनीकी प्रशिक्षण देने की भी योजना नहीं थी, जबकि ऐसे लोगों को उचित प्रशिक्षण देकर उनकी कमाई को कई गुना बढ़ाया जा सकता है। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App