ताज़ा खबर
 

यूपी में नौकरशाहों को सता रहा है सत्ता परिवर्तन का डर, बेचैन अधिकारियों ने शुरु की पार्कों, स्मारकों की सफाई

अब जब चुनाव अंतिम चरण में है तो उन्हीं के मंत्री और अधिकारी अंबेडकर पार्क के हाथियों और मायावती व कांशीराम की मूर्तियां चमकाने में जुट गए हैं।

अखिलेश सरकार बनने के बाद इन पार्कों और स्‍मारकों की साफ-सफाई और मरम्‍मत पर कोई ध्‍यान नहीं दिया गया था।

उत्तर प्रदेश में सरकार किसकी बनेगी ये अभी सबसे बड़ा सवाल है। इसका पता 11 मार्च को ही चलेगा। चुनावों में आमतौर पर होता ये है कि राजनीतिक दल और नौकरशाह वोटरों से भांपते हैं कि सत्ता किस ओर करवट बदलेगी। लेकिन, इस बार यूपी में साफतौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता है। यही वजह है कि नौकरशाह अभी से ही बीजेपी और बसपा के संपर्क में आ गए हैं। उनको ये डर सता रहा है की अगर यूपी में सत्ता परिवर्तन होती है तो उन्हें नई सरकार का कोपभाजन न बनना पड़े। इसके लिए अभी से ही आईएएस और आईपीएस अधिकारियों ने कमर कस ली है। वो उन पार्कों और स्मारकों को साफ कराने में लगे हैं जिनका निर्माण मायावती के शासन काल में हुआ था। 2012 में अखिलेश सरकार बनने के बाद इन पार्कों और स्‍मारकों की साफ-सफाई और मरम्‍मत पर कोई ध्‍यान नहीं दिया गया था। अखिलेश सरकार ने लखनऊ में बने पार्कों को मेट्रो ऑफिस और वुमेन पॉवर लाइन का दफ्तर बना दिया था। वहीं स्मारकों को नीली-पीली बरसाती से ढकवा दिया था।

अब जब चुनाव अंतिम चरण में है तो उन्हीं के मंत्री और अधिकारी अंबेडकर पार्क के हाथियों और मायावती व कांशीराम की मूर्तियां चमकाने में जुट गए हैं। इतना ही नहीं यहां पानी के लिए एक करोड़ की प्लम्बरिंग का सामान भी आ चुका है। गेट और प्लंबरिंग का काम स्मारक समिति की ओर से कराया जा रहा है। इन सभी कामों को 11 मार्च से पहले पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

कुछ अफसर यह काम जल्‍द से जल्‍द पूरा करने के लिए दबाव बनाए हुए हैं। हालांकि, संबंधित अधिकारी इस काम पर सफाई दे रहे हैं कि ये रूटीन का कार्य है। बजट जारी करने में देरी हुई थी, जिसकी वजह से काम देरी से शुरू हो सका है। इस काम के लिए एक स्‍मारक समिति है जिसमें प्रमुख सचिव आवास सदाकांत, उपाध्‍यक्ष लखनऊ विकास प्राधिकरण सत्‍येंद्र सिंह और सचिव विकास प्राधिकरण इसके पदेन सदस्‍य हैं। यह काम समिति की ओर से ही कराया जा रहा है। वहीं सियासी जानकारों का कहना है कि ऑफिसर ऐसा करते हैं तो उन्हें नई सरकार में पावर मिलेगी।

देखिए वीडियो - उत्तर प्रदेश चुनाव 2017: राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने रायबरेली में किए पीएम मोदी पर हमले

ये वीडियो भी देखिए - उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: जानिए राज्य के लोगों की राय

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App