ताज़ा खबर
 

यूपी इनवेस्‍टर्स समिट में घोटाला, गमलों को इधर-उधर करने पर ही दिखाया 32 लाख रुपए का खर्च

रिपोर्ट बताती है कि सभी सामान उद्यान प्रभारी संजय राठी और तबके उद्यान अधीक्षक धर्मपाल यादव ने खरीदा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ।(फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट इन्वेस्टर्स समिट में भी संबंधित अधिकारी घोटाला करने से बाज नहीं आए। दरअसल इन्वेस्टर्स समिट में की गई साज सज्जा और आयोजन के खर्च को लेकर नए-नए घोटाले सामने आ रहे हैं। यहां आलमबाग से राजधानी तक गमले पहुंचाने का खर्च ही 32 लाख रुपए दिखाया गया है। चौंकाने वाली बात यह है कि ऑडिट पर भी इस खर्च को कोई आपत्ति नहीं जताई गई।

मामले में खास बात यह है कि जब आयोजन को लेकर गड़बड़ी सामने आई तब सरकार ने भुगतान करने पर रोक लगा दी। ये आदेश 8 मार्च को जारी किया गया। मगर इस मामले में भी विभाग के रिकॉर्ड से पता चलता है कि सरकार की रोक के बाद भी 31 मार्च तक 83 लाख रुपए का भुगतान किया गया। एक समाचार पत्र की खबर के मुताबिक आयोजन के लिए गमले और फूल आलमबाग से ही खरीदे गए। रिपोर्ट बताती है कि सभी सामान उद्यान प्रभारी संजय राठी और तबके उद्यान अधीक्षक धर्मपाल यादव ने खरीदा।

जानकारी के मुताबिक कहां से फूल खरीदने हैं। सजावट का काम किसे सौंपना है। सामान ढुलाई का काम किसे सौंपना है। सारे काम बिना किसी नियम के इन्हीं दोनों अफसरों ने तय कर दिए। खबर के अनुसार धर्मपाल अभी तरक्की पाकर उप निदेशक के पद पर सहारनपुर में तैनात हैं जबकि संजय 25 सालों से लखनऊ में ही तैनात हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App