ताज़ा खबर
 

योगी के ‘मुखबिर’ बताएंगे कन्या भ्रूण हत्यारों का पता

मुख्यमंत्री ने कहा कि लिंग परीक्षण करके बालिका भ्रूण हत्या रोकने का कार्य जन सहयोग के बिना संभव नहीं है। इसके लिए राज्य सरकार ने ‘मुखबिर योजना’ शुरू की है।

Author लखनऊ | June 25, 2017 12:53 AM
yogi adityanath, cm yogiयूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ। (REUTERS/Jitendra Prakash

उत्तर प्रदेश में घटते लिंगानुपात पर असरदार ढंग से रोक लगाने के उद्देश्य से योगी आदित्यनाथ सरकार ने शनिवार को ‘मुखबिर योजना’ की शुरुआत की। इसके तहत बेटियों को जन्म लेने से रोकने वालों पर कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है। इस योजना के तहत ऐसे व्यक्तियों और संस्थाओं के विरुद्ध कार्रवाई करके उन्हें कानून के शिकंजे में लाया जाएगा, जो तकनीक का दुरुपयोग भ्रूण का लिंग पता करके बेटियों को जन्म लेने से रोक रहे हैं। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने ‘181’ महिला हेल्पलाइन के 64 वाहनों को झंडा दिखा कर रवाना किया और यह योजना 11 जनपदों से बढ़ाकर पूरे प्रदेश में लागू कर दी गई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा, ‘घटता हुआ लिंगानुपात आज समाज की ज्वलंत समस्या है। इसके दृष्टिगत राज्य सरकार द्वारा ‘मुखबिर योजना’ का शुभारंभ किया गया है। घटते लिंगानुपात को रोकने के लिए जनजागरूकता व कानून की आवश्यकता है।’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेटियों पर होने वाले भेदभाव को समाप्त करने और बेटियों को उनका हक दिलाने के लिए ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना संचालित की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि लिंग परीक्षण करके बालिका भ्रूण हत्या रोकने का कार्य जन सहयोग के बिना संभव नहीं है। इसके लिए राज्य सरकार ने ‘मुखबिर योजना’ शुरू की है।

योगी ने कहा कि इस योजना के माध्यम से भ्रूण हत्या के संबंध में जनता से गोपनीय रूप से सूचना प्राप्त की जाएगी। ऐसे व्यक्तियों और संस्थाओं के विरुद्ध कार्रवाई करके उन्हें कानून के शिकंजे में लाया जाएगा, जो तकनीक का दुरुपयोग भ्रूण का लिंग पता करके बेटियों को जन्म लेने से रोक रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘मुखबिर योजना’ में आम जनता का सहयोग प्राप्त होने से उन चिकित्सकों में भय पैदा होगा, जो बेटी के जन्म लेने से पहले ही भ्रूण हत्या करते हैं। इस योजना के कार्यान्वयन होने से घटते लिंगानुपात पर प्रभावी रोक लगेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कुछ जनपदों में लिंगानुपात बहुत कम है- वहां पर लघु फिल्म, लघु नाटक, गोष्ठियों आदि कार्यक्रमों के माध्यम से  जनजागरूकता अभियान चलाया जाए। उन्होंने कहा, ‘राज्य सरकार महिलाओं एवं बालिकाओं को पूरी सुरक्षा देने के साथ-साथ उनके सामाजिक और आर्थिक सशक्तीकरण के लिए कृतसंकल्प है। कोई भी समाज बिना महिलाओं के योगदान के विकास नहीं कर सकता। इसके दृष्टिगत सत्ता में आते ही प्रदेश सरकार द्वारा एंटी रोमियो स्कवायड जैसे कई प्रभावी कदम उठाए गए हैं।’

योगी ने अपने सरकारी आवास पर प्रदेश सरकार की ‘181’ महिला हेल्पलाइन के 64 बचाव वाहनों को रवाना किया। मुख्यमंत्री ने 11 जनपदों में जारी ‘181’ महिला हेल्पलाइन योजना को शेष 64 जिलों में लागू कर दिया गया है। इससे यह योजना पूरे प्रदेश में लागू हो गई है। लिहाजा लखनऊ में संचालित हो रही केंद्रीकृत कॉल सेंटर की क्षमता छह सीटर से बढ़ाकर 30 सीटर कर दी गई है। यह टोल फ्री नंबर है जिस पर कोई भी पीड़ित महिला या बालिका फोन कर मदद प्राप्त कर सकती है। योगी ने कहा कि कॉल करने वाली पीड़ित महिला के सबसे नजदीक उपलब्ध जीपीएस युक्त बचाव वाहन के माध्यम से ‘181’ हेल्पलाइन की टीम घटनास्थल पर पहुंच कर सहायता प्रदान करती है। इस वैन में एक प्रशिक्षित महिला परामर्शदाता के साथ-साथ एक महिला पुलिस आरक्षी भी तैनात रहती है, जो पीड़ित महिलाओं को विषम परिस्थितियों से बचाने व परामर्श देने का कार्य भी करती है। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश की महिला कल्याण एवं परिवार कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन शुल्क मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी, सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री मोहसिन रजा, अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री बलदेव ओलख, महिला कल्याण राज्य मंत्री स्वाति सिंह व प्रमुख सचिव महिला कल्याण रेणुका कुमार उपस्थित थे।
योगी के ‘मुखबिर’ बताएंगे कन्या भ्रूण हत्यारों का पता

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मुरादाबाद: लव मैरिज करने पर परिवार ने महिला को जलाकर मार डाला, बचाने आई ननद भी झुलसी
2 जब लेडी सीओ ने कहा- आप भाजपा के गुंडे हो, कहीं भी हिंदू-मुस्लिम दंगा करा दो, जाओ सीएम से लिखा कर लाओ
3 यूपी: 6 साल की बच्ची से रेप और मर्डर के आरोपी की गांव वालों ने पीट-पीटकर की हत्या
यह पढ़ा क्या?
X