ताज़ा खबर
 

विवेक तिवारी हत्‍याकांड: कल्‍पना तिवारी ने डिप्‍टी सीएम से लिया नियुक्ति पत्र, बोलीं- सही चल रही जांच

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने मृतक की पत्नी कल्पना तिवारी से मुलाकात कर उन्हें सरकारी नौकरी का नियुक्ति पत्र सौंप दिया है।

नियुक्ति पत्र मिलने के बाद कल्पना तिवारी ने यहां पत्रकारों से कहा कि उन्हें लगता है कि पति की मृत्यु के मामले में जांच सही दिशा में चल रही है। (ANI PHOTO)

पिछले दिनों लखनऊ में यूपी पुलिस की गोली का शिकार हुए एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी के परिवार को राज्य सरकार की तरफ से बड़ी राहत मिली है। न्यूज एजेंसी एएनआई की खबर के मुताबिक प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने मृतक की पत्नी कल्पना तिवारी से मुलाकात कर उन्हें सरकारी नौकरी का नियुक्ति पत्र सौंप दिया है। नियुक्ति पत्र मिलने के बाद कल्पना तिवारी ने यहां पत्रकारों से कहा कि उन्हें लगता है कि पति की मृत्यु के मामले में जांच सही दिशा में चल रही है। वह अभी तक हुई जांच से संतुष्ट हैं। यहां बता दें कि 29 सितंबर को एक पुलिसकर्मी ने लखनऊ में एप्पल के सेल्स मैनेजर को कथित तौर पर अपराधी होने के शक में गोली में मार दी थी। आरोप है कि घटना के वक्त तिवारी ने अपनी कार पुलिसकर्मी की बाइक पर चढ़ाने की कोशिश की जब पुलिस उन्हें रोकने की कोशिश कर रही थी।

तिवारी की इसी हरकत से गुस्साए वहां मौजूद एक पुलिसकर्मी प्रशांत चौधरी ने हवाई फायर कर दिया। गोली कार की विंडशील्ड तोड़ते हुए विवेक तिवारी को जा लगी। बाद में गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हुए एप्पल कर्मचारी को तुरंत गोमतीनर के डॉक्टर राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल पहुंचाया गया। जहां गंभीर चोट लगने की वजह से उनकी मौत हो गई। घटना के बाद मृतक के परिजनों ने गोमती नगर पुलिस स्टेशन में तिवारी पर गोली चलाने वाले पुलिसकर्मी के खिलाफ केस दर्ज कराया। हत्या का केस दर्ज होने पर दो पुलिसकर्मी प्रशांत चौधरी और संदीप कुमार को गिरफ्तार किया गया। इनमें से एक एफआईआर घटना के वक्त तिवारी के साथ मौजूद सना खान ने दर्ज कराई।

बाद में विवेक तिवारी हत्याकांड की वजह से चौतरफा घिरी प्रदेश की योगी सरकार ने दो अक्टूबर को तिवारी के परिजनों को 40 लाख रुपए का चैक सौंपा। इसके अलावा एसआईटी के नेतृत्व में घटना का सीन दोबारा निर्मित किया गया, जहां विवेक तिवारी को गोली मार देने जैसे हालात पैदा किए गए। तब मामले में आगे की जांच के लिए एसआईटी ने और सुराग की तलाश की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App