UP: CM Yogi Adityanath government Allotted 1400 crore, given 40 days to fill up Road potholes - योगी आदित्य नाथ सरकार ने दिए 1395 करोड़ रुपए, कहा- 40 दिन में भरो 11 हजार सड़कों के गड्ढे - Jansatta
ताज़ा खबर
 

योगी आदित्य नाथ सरकार ने दिए 1395 करोड़ रुपए, कहा- 40 दिन में भरो 11 हजार सड़कों के गड्ढे

राज्य सरकार ने 6 मई को धनराशि की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने इस कार्य को पूरा करने के लिए 15 जून तक का समय दिया है

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। (Photo: PTI)

उत्तर प्रदेश में सड़कों के गड्ढे भरे जाने का काम जोर-शोर से शुरू कर दिया गया है। योगी आदित्य नाथ सरकार ने 40 दिन के भीतर 11,107 सड़कों के गड्ढे भरने के आदेश दिए हैं। इसके लिए सरकार ने 1395 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं। राज्य सरकार ने 6 मई को धनराशि की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने इस कार्य को पूरा करने के लिए 15 जून तक का समय दिया है। इसके बाद से राज्य में मानसून की बारिश शुरू हो जाती है। बिजनेस अखबार इकॉनमिक टाइम्स के मुताबिक, सबसे ज्यादा गड्ढे लखनऊ जोन में है। इस जोन के भीतर राज्य की राजधानी और पड़ोसी जिले आते हैं, जहां 1632 सड़कें गड्ढों वाली हैं।

इस सूची में लखनऊ जोन के बाद फैजाबाद, इलाहाबाद, आजमगढ़, आगरा और गोरखपुर का नंबर आता है। इन छह जोन को भी सड़कों की मरम्मत के लिए सबसे ज्यादा पैसा दिया गया है। हालांकि झांसी और मुरादाबाद जोन में सड़कों की स्थिति बेहतर दिखाई पड़ती है। उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग द्वारा कराए गए एक सर्वे के मुताबिक, राज्य की सड़कों के एक तिहाई हिस्से में गड्ढे हैं।

मुख्यमंत्री ने आदेश दिए हैं कि इस बात पर कड़ी नजर रखी जाए कि सड़कों को रिपेयर करने में केवल अच्छी क्वालिटी मटेरियल का ही इस्तेमाल है। इसके अलावा प्रमुख सार्वजनिक प्रतिनिधि की मौजूदगी में कंस्ट्रक्शन की वीडियोग्राफी भी की जाएगी। हाल ही में मुख्यमंत्री ने एक बैठक की थी और सड़कों के सुधार को लेकर आदेश दिए थे। सीएम का कहना था कि सड़क के मामले में उत्तर प्रदेश की तस्वीर काफी खराब है। उन्होंने कहा कि यहां की सड़कों को पड़ोसी राज्यों की सड़कों से बेहतर बनाया जाए। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री और अन्य मिनिस्टर सड़कों की रिपेयरिंग के काम का औचक निरीक्षण कर सकते हैं। इसके अलावा मध्य प्रदेश की तर्ज पर यूपी में भी सड़क निर्माण निगम का गठन किया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App