Three months after the marriage brother in law raped woman husband beat him in Bareilly - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बरेली: निकाह के तीन महीने बाद जेठ ने किया रेप, शौहर ने पीटकर घर से निकाला

निराश पीड़िता ने खुद की जान लेनी की कोशिश की, हालांकि उसे बचा लिया गया। इसके बाद मामला यहीं शांत नहीं हुआ बल्कि 15 जून को पति और जेठ सहित ससुराल वाले ने महिला को फिर पीटा और जबरन घर से निकाल दिया।

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo credit- Indian express)

उत्तर प्रदेश के बरेली में इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। यहां शादी के बाद महिला ससुराल पहुंची तो तीन महीने बाद जेठ ही उससे दुष्कर्म किया। पीड़िता ने मामले की जानकारी पति को दी तो उसे ही पीट-पीटकर घर से बाहर कर दिया। आरोपी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के थाने पहुंची तो पुलिस ने चरित्र पर सवाल उठा दिए। हेल्पलाइन 181 पर शिकायत दर्ज कराई तो 25 दिन मामले में संज्ञान लिया गया और केस दर्ज किया गया। चौंकाने वाली बात यह है कि पुलिस ने इसके बाद भी आरोपियों के खिलाफ एक्शन नहीं लिय। बीते शनिवार को पीड़िता आला हजरत हेल्पिंग सोसायटी की अध्यक्ष निदा खान के पास पहुंची और इंसाफ दिलाने की गुहार लगाई। मामले में निदा खान ने राज्य के मुख्यमंत्री और डीजीपी के समक्ष ट्विटर के जरिए शिकायत दर्ज कराई है।

अमर उजाला समाचार पत्र के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक पति, पीड़िता से बीस लाख रुपए लाने की मांग कर रहा था। ससुराल वाले भी उसे बुरी तरह प्रताड़ित करने लगे। दहेज की मांग पूरी नहीं हुई जेठ भी पीड़िता संग जबरदस्ती करने लगा। एक दिन जब घर में कोई मौजूद नहीं था तब जेठ ने पीड़िता संग बलात्कार किया। बाद में जब पति घर लौटा और पीड़िता ने पूरी दास्तान सुनाई तो वह उसी पर गुस्सा होने लगा। महिला संग मारपीट की गई। इससे निराश पीड़िता ने खुद की जान लेनी की कोशिश की, हालांकि उसे बचा लिया गया। इसके बाद मामला यहीं शांत नहीं हुआ बल्कि 15 जून को पति और जेठ सहित ससुराल वाले ने महिला को फिर पीटा और जबरन घर से निकाल दिया। सारे जेवर और अन्य सामान भी छीन लिया गया।

मामले में आला हजरत हेल्पिंग सोसायटी की अध्यक्ष निदा खान ने बताया कि पुलिस की नरमी की वजह से अबतक आरोपियों को इंसाफ के कटघरे में नहीं लाया जा सका है। तुरंत रिपोर्ट ना लिखे जाने से आरोपियों का हौसला बढ़ता है। हालांकि निदा मानती हैं कि इसके लिए सिस्टम में बदलाव की जरुरत है। निदा कहती हैं, ‘इसलिए मैंने अब फैसला किया है कि तीन तलाक और हलाला के अलावा बलात्कार पीड़ितों के पक्ष में भी आवाज उठाऊंगी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App