ताज़ा खबर
 

सपा कार्यकारिणी बैठक: विस चुनाव में पार्टी को मज़बूत करने की रणनीति पर चर्चा, शिवपाल यादव ने की अध्यक्षता

मुलायम सिंह ने आगामी 24 अक्तूबर को प्रदेश के सभी मंत्रियों की बैठक बुलायी है, लेकिन अखिलेश ने मुलायम से पहले 23 अक्तूबर को ही विधानमण्डल दल की बैठक बुला ली है।

Author लखनऊ | October 22, 2016 6:33 PM
Shivpal Yadav, Samajwadi Party, Sp state executive meet, UP Assembly Polls, Akhilesh yadav vs Shivpal Yadav, Shivpal Yadav News, Shivpal Yadav latest newsशिवपाल यादव (ANI)

उत्तर प्रदेश के ‘समाजवादी परिवार’ में जारी रार के बीच सत्तारूढ़ समाजवादी (सपा) की नवगठित प्रान्तीय कार्यकारिणी की शनिवार (22 अक्टूबर) को हुई पहली बैठक में आगामी पांच नवम्बर को आयोजित होने वाले सपा के रजत जयन्ती समारोह को ‘ऐतिहासिक’ बनाने और अगले विधानसभा चुनाव में पार्टी को हर स्तर पर मजबूत करने की रणनीति पर चर्चा की गई। सपा प्रवक्ता अम्बिका चौधरी ने बैठक के बाद संवाददाताओं को बताया कि शिवपाल यादव के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी की नई राज्य कार्यकारिणी की शनिवार को पहली बैठक हुई, जिसमें विभिन्न मुद्दों पर विस्तृत विचार-विमर्श किया गया। उन्होंने बताया कि कार्यसमिति की बैठक में आगामी पांच नवम्बर को पार्टी के रजत जयन्ती समारोह को कामयाब बनाने और उसे ‘ऐतिहासिक’ स्वरूप देने पर विचार किया गया। सभी सदस्यों को इस सिलसिले में जिम्मेदारी भी दी गई है।

चौधरी ने बताया कि राज्य विधानसभा के आगामी चुनाव में पार्टी को कामयाबी दिलाने के लिए सभी कार्यकारिणी सदस्य हर स्तर पर पूरी तैयारी के साथ मजबूती से काम करेंगे। मालूम हो कि समाजवादी परिवार में जारी खींचतान के बीच बैठकों का दौर जारी है। सपा के प्रान्तीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने शुक्रवार (21 अक्टूबर) को पार्टी के जिलाध्यक्षों तथा महासचिवों की बैठक बुलायी थी। इसमें बुलावे के बावजूद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शिरकत नहीं की थी। अखिलेश ने बाद में इन जिला पदाधिकारियों को अपने घर पर बुलाकर सम्बोधित किया था। सपा मुखिया मुलायम सिंह ने आगामी 24 अक्तूबर को प्रदेश के सभी मंत्रियों की बैठक बुलायी है, लेकिन अखिलेश ने एक चौंकाने वाले फैसले में मुलायम से पहले 23 अक्तूबर को ही विधानमण्डल दल की बैठक बुला ली है।

शिवपाल ने अखिलेश के साथ अपनी तनातनी के बीच शुक्रवार को जिला पदाधिकारियों की बैठक में नरम रुख अख्तियार करते हुए कहा था कि अगर अखिलेश कहें तो वह पार्टी प्रदेश अध्यक्ष का पद छोड़ देंगे। अखिलेश ही आगामी चुनाव में सपा के मुख्यमंत्री पद के दावेदार होंगे। मालूम हो कि गत जून में माफिया-राजनेता मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल अंसारी की अगुवाई वाले कौमी एकता दल (कौएद) के शिवपाल की पहल पर सपा में विलय को लेकर अखिलेश की नाराजगी के बाद पार्टी में तल्खी का दौर शुरू हो गया था। कुछ दिन बाद इस विलय के रद्द होने से यह कड़वाहट और बढ़ गई थी। शिवपाल ने कुछ दिन बाद प्रदेश में जमीनों पर अवैध कब्जों को लेकर इस्तीफे की पेशकश की थी। गत 15 अगस्त को सपा मुखिया ने मैदान में उतरते हुए शिवपाल की हिमायत की थी और कहा था कि अगर शिवपाल पार्टी से चले गए तो सपा टूट जाएगी।

अखिलेश ने गत 12 सितम्बर को भ्रष्टाचार के आरोप में तत्कालीन खनन मंत्री गायत्री प्रजापति तथा एक अन्य मंत्री राजकिशोर सिंह को बर्खास्त कर दिया था। ये दोनों ही सपा मुखिया के करीबी माने जाते हैं। मुलायम के कहने पर बाद में प्रजापति की मंत्रिमण्डल में वापसी हो गयी थी। इसे मुख्यमंत्री अखिलेश के लिये करारा झटका माना गया था। मुख्यमंत्री 13 सितम्बर को शिवपाल के करीबी माने जाने वाले मुख्य सचिव दीपक सिंघल को पद से हटाकर अपने पसंदीदा अधिकारी राहुल भटनागर को यह पद दे दिया था। उसके फौरन बाद मुलायम ने अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर वरिष्ठ काबीना मंत्री शिवपाल को यह जिम्मेदारी दे दी थी। इससे नाराज मुख्यमंत्री ने शिवपाल से उनके महत्वपूर्ण विभाग छीन लिए थे।

अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष पद पर वापस लेने से सपा मुखिया के इनकार से पार्टी के युवा नेताओं में नाराजगी की लहर दौड़ गई और वे पार्टी राज्य मुख्यालय के सामने सड़क पर उतर आए, जिसके बाद तीन विधान परिषद सदस्यों समेत कई युवा नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी से निकाल दिया गया। हाल में मुलायम द्वारा कौएद के सपा में विलय को बहाल किए जाने सम्बन्धी शिवपाल की घोषणा को अखिलेश की एक और पराजय के तौर पर देखा गया।

Next Stories
1 केजरीवाल-विश्वास की याचिका पर फैसला सुरक्षित, लोस चुनाव में भड़काऊ भाषण मामला
2 यूपी: पीएम नरेंद्र मोदी से बेटी का ‘नामकरण’ करने को कहा, पीएम ने खुद कॉल करके रखा ‘वैभवी’ नाम
3 शिवपाल यादव की सपा बैठक से अखिलेश ने बनाई दूरी
ये पढ़ा क्या?
X