ताज़ा खबर
 

लापता हुए रेप के आरोपी और सपा नेता गायत्री प्रजापति, अमेठी से लखनऊ तक पुलिस कर रही मशक्कत

49 साल के गायत्री प्रजापति पर सामुहिक बलात्कार और यौन उत्पीड़न के आरोप है

उत्तर प्रदेश के मंत्री गायत्री प्रजापति

उत्तर प्रदेश के विवादित मंत्री और रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति लापता हो गए हैं। बीती रात जब पुलिस सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद प्रजापति के घर पहुंची तो वो वहां नहीं मिले। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस की एक टीम प्रजापति के सरकारी आवासपर पहुंची थी। यह जांच का एक हिस्सा था। लेकिन मंत्री वहां नहीं मिले। इसके बाद पुलिस टीम को अमेठी भी भेजा गया। गायत्री प्रजापति को आखिरी बार अमेठी में चुनावी रैली में देखा गया था, जहां से वो यूपी विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार हैं। पुलिस अमेठी से लखनऊ तक उन्हें ढूंढने के लिए मशक्कत कर रही है।

गायत्री प्रजापति पर जमीन कब्जे, खनन घोटाला, आय से अधिक संपत्ति, बलात्कार और मारपीट के कई आरोप लग चुके हैं। इन्हीं आरोपों की वजह से वे मंत्रिमंडल से बर्खास्त किए गए थे लेकिन मुलायम सिंह यादव के दबाव में अखिलेश को प्रजापति को वापस लाना पड़ा। इसके बाद सपा-कांग्रेस गठबंधन के बाद अमेठी से टिकट पाने में भी गायत्री कामयाब रहे। पिछले हफ्ते चुनावी रैली के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए गायत्री प्रजापति रो पड़े थे। इसी जनसभा में यूपी के सीएम और समाजवादी पार्टी मुखिया अखिलेश यादव को भी आना था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सवाल उठाए जाने के बाद अखिलेश यादव ने “रेप के आरोपी” के साथ मंच साझा ना करने का फैसला लिया था। इसलिए गायत्री प्रजापति अखिलेश के आने से पहले ही मंच छोड़ चले गए थे।

49 साल के गायत्री प्रजापति को एफआईआर दर्ज होने के बाद गिरफ्तार किया गया था। उनपर एक महिला के सामुहिक बलात्कार और महिला की बेटी का उत्पीड़न करने का आरोप है। हालांकि पुलिस ने मंत्री के खिलाफ तभी केस दर्ज किया था जब यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया। प्रजापति पर सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सामूहिक बलात्कार का मुकदमा दर्ज किया गया था। हालांकि प्रजापति ने महिला के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था। उन्होंने दावा किया कि जिस महिला के आरोप पर मुकदमा दर्ज हुआ है, वह पहले भी कई लोगों पर ऐसे इल्जाम लगा चुकी है।

रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति रैली के दौरान रो पड़े;

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App