ताज़ा खबर
 

शिवपाल यादव ने कहा-‘अखिलेश के पास अनुभव की कमी है, उनको मुझसे कुछ सीखना चाहिए’

शिवपाल ने कहा, 'नेता जी पार्टी अध्यक्ष हैं। जब वो खुद मुझे प्रदेश अध्यक्ष बनाना चाहते हैं तो कोई और कुछ कर ही नहीं सकता।'

शिवपाल यादव के काफिले पर हमला। (File Photo)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ जारी जंग पर उनके चाचा शिवपाल यादव ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। शिवपाल यादव ने न्यूज चैनल इंडिया टीवी के कार्यक्रम ‘चुनाव मंच’ में परिवार और समाजवादी पार्टी में उठे विवाद पर खुलकर बात की। शिवपाल ने पार्टी और मुलायम सिंह यादव के प्रति वफादारी प्रकट करते हुए कहा, ‘नेता जी(मुलायम सिंह यादव)का संदेश मेरे लिए आदेश है और वह जो भी निर्णय करेंगे उसको मानने के लिए मैं बाध्य हूं।’ शिवपाल यादव ने कहा,’हम सब नेता जी (मुलायम सिंह यादव) के साथ खड़े हैं। उनका सेदेश हमारे लिए आदेश है। मैने अपने घर के बाहर आए समर्थकों से भी कहा कि किसी भी कीमत पर समाजवादी पार्टी और नेता जी को कोई नुकसान नहीं होना चाहिए। मैंने अपने समर्थकों से कहा कि हम सबको मिलकर पार्टी को मजबूत करना है।’

इंडिया टीवी के मैनेजिंग एडिटर अजित अंजुम द्वारा मुलायम सिंह यादव के फैसले के बारे में पूछे जाने पर शिवपाल ने कहा, ‘नेता जी पार्टी अध्यक्ष हैं। जब वो खुद मुझे प्रदेश अध्यक्ष बनाना चाहते हैं तो कोई और कुछ कर ही नहीं सकता।’ इस मुद्दे पर अजित अंजुम द्वारा थोड़ा खुलकर बोलने के लिए कहने पर शिवपाल यादव ने कहा कि थोड़ा अक्ल का इस्तेमाल करिये नेता जी का क्या चाहते हैं समझ में आ जाएगा।

मुख्यमंत्री पद के लिए मैं अखिलेश का पूर्ण रूप से समर्थन करता हूं: अपने इस्तीफे और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ चल रहे विवाद के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘अखिलेश मेरे बेटे की तरह हैं और बेटा जब किसी उच्च पद पर होता है तो उससे उम्मीदें भी बढ़ जाती हैं। मुझसे मंत्री पद की जिम्मेदारी वापस ली गई है और मैने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया है, यह मुख्यमंत्री का अधिकार है। उन्होंने मेरे पास एक मंत्रालय का प्रभार छोड़ा था, मैने सोचा विभाग कोई भी देख सकता है, मुझे पार्टी का काम देखना है मैं वही देखूंगा। पार्टी में मुझे बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। चुनाव नजदीक है और हम किसी भी कीमत पर समाजवादी पार्टी को कमजोर नहीं होने दे सकते हैं।’

Read Also: ‘पार्टी नेतृत्व कहे तो मुख्यमंत्री पद छोड़ सकता हूं लेकिन, टिकटों का बटवारा मैं ही करूंगा’

मुख्यमंत्री पद पर बैठे व्यक्ति को घमंडी नहीं होना चाहिए: शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री पद एक बड़ी जिम्मेदारी होती है और इस पद पर बैठे हुए व्यक्ति को घमंडी नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव के पास अनुभव की कमी है, उन्हें मेरे और नेता जी के अनुभव का लाभ उठाना चाहिए तथा कुछ सीखना चाहिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पद पर बैठने की उनकी कोई इच्छा नहीं है और वह इस पद के लिए अखिलेश का पूर्ण रूप से समर्थन करते हैं। मुलायम सिंह के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए शिवपाल ने कहा, ‘नेता जी ने मुझे बहुत कुछ दिया है, मैं आज जहां हूं उनकी वजह से ही हूं, मैं इस बारे में कभी सोच भी नहीं सकता था।’

Read Also: शिवपाल के समर्थन में इटावा में धरने पर बैठे समर्थक, मुलायम को सीएम बनाने की कर रहे हैं मांग

अमर सिंह से पार्टी और परिवार को कोई नुकसान नहीं है: अमर सिंह के इस विवाद की जड़ होने के सवाल पर शिवपाल ने कहा कि उनका इस विवाद से कोई लेना देना नहीं है। शिवपाल ने कहा कि अमर सिंह हमारे परिवार को नुकसान नहीं पहुंचा सकते। पार्टी में अमर सिंह की वापसी पर शिवपाल ने कहा कि यह फैसला नेता जी से पूछ कर लिया गया था। उन्होंने कहा कि इस पूरे प्रकरण में नेता जी को ही फैसला करना है और उनका जो निर्णय होगा वही आखिरी होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App