ताज़ा खबर
 

लखनऊ में शीला दीक्षित के पहले ही कार्यक्रम में विघ्न, रथ का मंच टूटा

ट्रक में लगे मंच के टूटने से शीला और बब्बर को हल्की चोटें आई हैं। इसके बाद कार्यकर्ताओं ने उन्हें तुरंत संभाला और कार में बैठा दिया।

Author लखनऊ | July 18, 2016 09:42 am
शीला दीक्षित को गत गुरुवार को उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया था।

उत्तर प्रदेश में अर्से से हाशिये पर खड़ी कांग्रेस में नई जान फूंकने की महत्वाकांक्षा के साथ आलाकमान द्वारा चुनी गई टीम के पहली बार रविवार को लखनऊ पहुंचने पर शक्ति प्रदर्शन किया। कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार शीला दीक्षित और नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के साथ पहुंचे चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष राज्यसभा सदस्य संजय सिंह तथा समन्वय समिति के अध्यक्ष प्रमोद तिवारी समेत कई वरिष्ठ नेताओं ने राजधानी में रोड शो करके कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने की कोशिश की।

Read Also: UP में शीला को CM का उम्मीदवार बनाना मानो ब्राह्मण समाज की आंखों में धूल झोंकना: मायावती

रोड शो के दौरान शीला के रथ का मंच टूट गया। रोड शो के लिए ट्रक में तख्ता लगाया गया था। इसके टूटने पर शीला और बब्बर को हल्की चोटें आई हैं। इसके बाद कार्यकर्ताओं ने उन्हें तुरंत संभाला और कार में बैठा दिया। लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे से कांग्रेस राज्य मुख्यालय के बीच करीब 16 किलोमीटर तक हुए रोड शो के दौरान जगह-जगह पार्टी कार्यकर्ताओं ने पुष्पवर्षा करके और माला भेंटकर पार्टी नेताओं का जोरदार स्वागत किया। इस स्वागत से गदगद राज बब्बर ने बाद में कहा कि उनकी टीम किसी पार्टी से लड़ने के लिए नहीं बल्कि एक मिशन लेकर आई है। इस सूबे को पिछले 27 साल के दौरान हुए कुशासन से मुक्ति दिलाना उनकी पूरी टीम का लक्ष्य है। पिछले 27 साल के दौरान प्रदेश में जो भी सरकार आयी, उसने लूट को ही बढ़ावा दिया। आलम यह है कि प्रदेश सरकार का मुखिया यह कहता है कि वह लूट रोकने में असमर्थ हो चुका है।

Read Also:  कांग्रेस सबसे खराब दौर से गुजर रही है, उम्मीद थी कि शीला दीक्षित पार्टी छोड़ देंगी: जेटली

पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार शीला दीक्षित ने एक सवाल पर सफाई देते हुए कहा कि दिल्ली की मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने कभी यह नहीं कहा कि उत्तर प्रदेश और बिहार से आने वाले लोगों की वजह से दिल्ली की व्यवस्था खराब होती है। उन्होंने कहा कि उनके बयान को तोड़मरोड़कर पेश किया गया था।

बता दें, करीब 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रह चुकी 78 वर्षीय शीला दीक्षित को गत गुरुवार को उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया था। इसके दो दिन पहले ही पूर्व सांसद राज बब्बर को निर्मल खत्री की जगह उत्तर प्रदेश कांग्रेस का नया अध्यक्ष बनाया गया था। इन दोनों की अगुवाई में कांग्रेस के सामने आगामी विधानसभा चुनाव में बड़ी कामयाबी हासिल करके 403 सदस्यीय विधानसभा में अपनी सदस्य संख्या बढ़ाने की बड़ी चुनौती है।

Read Also:  ANALYSIS: इन चार कारणों से शीला दीक्षित को यूपी में कांग्रेेस ने बनाया चुनावी चेहरा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App