ताज़ा खबर
 

लखनऊ: योगी आदित्य नाथ के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले आईपीएस एसआर दारापुरी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

आईपीएस एसआर दारापूरी और उनके साथी मुख्यमंत्री आवास पर जाकर रैली निकालने की तैयारी कर रहे थे।
पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में योगी सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद करने की तैयारी कर रहे पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी समेत आठ लोगों को पुलिस ने शांतिभंग करने की आशंका में गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल लखनऊ के प्रेस क्लब में एसआर दारापुरी के नेतृत्व में 4-5 दलित हितैशी संगठनों ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया था। शहर पश्चिमी के पुलिस अधीक्षक विकास चन्द्र त्रिपाठी ने इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को शांतिभंग की आशंका का हवाला देकर रद्द करवा दिया। इससे पहले पुलिस ने आयोजकों को प्रेस क्लब खाली करने के निर्देश दिये थे लेकिन आईपीएस एसआर दारापुरी और एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष रमेश चन्द्र दीक्षित ने कहा कि उन्हें आयोजन करने से कोई नहीं रोक सकता। वो अपनी बात जनता के सामने जरूर रखेंगे। बाद में मजबूरन पुलिस को इन सब लोगों को गिरफ्तार करना पड़ा। पुलिस ने इन सबको गिरफ्तार कर पुलिस लाइन भेज दिया है।

पुलिस अधीक्षक विकास चन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि ये लोग प्रेस क्लब में वार्ता के नाम पर एकजुट हो कर मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के आवास की ओर कूच करने वाले थे। जिसे समय रहते रोक लिया गया है।

 

आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले कुशीनगर में सीएम के दौरे से पहले अधिकारियों द्वारा दलितों को साबुन और शैंपू बांटे गए थे, ताकि वे योगी आदित्यनाथ की सभा में नहा-धोकर आएं। इसी बात के विरोध में दारापूरी और उनके साथी मुख्यमंत्री आवास पर जाकर रैली निकालने की तैयारी कर रहे थे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Sidheswar Misra
    Jul 4, 2017 at 8:52 am
    लोकतंत्र के नाम पर हिटलर शाही।
    (0)(0)
    Reply
    1. Ram Babu
      Jul 3, 2017 at 6:15 pm
      darapuri could also continue supplying soap and shampoo to poor if he is so concerned about their 'demeaning' treatment . When will these worthies learn the realities of life , rather than make an issue of non-event !
      (0)(0)
      Reply