ताज़ा खबर
 

‘चेहरा’ के नाम पर प्रशांत किशोर ने यूपी में ली पहली बलि, मिस्‍त्री की जगह गुलाम नबी आजाद को बनवाया प्रभारी!

कांग्रेस के चुनाव प्रबंधन देखने के लिए लाए गए प्रशांत किशोर चाहते थे कि राज्‍य में किसी ब्राह्मण या मुस्लिम को ही चेहरा बनाया जाए।

Author लखनऊ | Updated: June 13, 2016 1:56 PM
Ghulam Nabi Azad, Ghulam Nabi Azad news, UP Elections 2017, Madhusudan Mistry, Prashant Kishore, Prashant Kishore news in hindi, Madhusudan Mistry latest news, congress, Congress candidate in UP Elections, UP elections congress, congress UP, UP Elections, UP Assembly Elections 2017, Prashant Kishore Congress UP, Ghulam Nabi Azad Congress UP, Prashant Kishore UP Elections 2017, Madhusudan Mistry Congress UP, Politics News, Jansattaउत्‍तर प्रदेश में कांग्रेस नेता प्रशांत की मौजूदगी को लेकर इसलिए मुखर नहीं हैं क्‍योंकि उन्‍हें कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने नियुक्‍त किया है। (FILE PHOTO)

उत्‍तर प्रदेश के लिए कांग्रेस ने रविवार को गुलाम नबी आजाद को प्रभारी घोषित किया। वह मधुसूदन मिस्‍त्री की जगह लेंगे। मिस्‍त्री अगले साल होने वाले उत्‍तर प्रदेश विधान सभा चुनाव के लिए सक्रियता से काम कर रहे थे, लेकिन बताया जाता है कि प्रशांत किशोर ने उन्‍हें हटाने के लिए कहा। सूत्र बताते हैं कि किशोर ने हाईकमान से यूपी के लिए एक चेहरे की मांग की। और, वह भी चुनाव से पहले।

REAL ALSO: यूपी: प्रदेश कांग्रेस दफ्तर के छत पर ऑफिस बना, कांग्रेस को जिताने के लिए कैसे काम कर रहे हैं प्रशांत किशोर, जानिए

उनकी मांग को देखते हुए पार्टी ने आजाद को भेजने का फैसला किया। वह दो बार पहले भी उत्‍तर प्रदेश प्रभारी रह चुके हैं और राज्‍य के कार्यकर्ताओं के बीच जाने-पहचाने चेहरे हैं। पार्टी से जुड़े सूत्र बताते हैं कि कांग्रेस के चुनाव प्रबंधन देखने के लिए लाए गए प्रशांत किशोर चाहते थे कि राज्‍य में किसी ब्राह्मण या मुस्लिम को ही चेहरा बनाया जाए।

READ ALSO: प्रशांत किशोर के खिलाफ यूपी के कांग्रेसियों के अंदर धधक रहा ज्‍वालामुखी, कभी भी हो सकता है विस्‍फोट?

सूत्र बताते हैंं कि कांग्रेस ने गुलाम नबी आजाद का नाम पहले ही तय कर लिया था, लेकिन राज्‍यसभा चुनाव के चलते इसकी घोषणा नहीं की थी। शनिवार को हुए राज्‍यसभा चुनाव में कांग्रेस के तीन मुस्लिम विधायकों ने बसपा उम्‍मीदवार को अपना वोट दिया था। इस चुनाव में भी आजाद ने बतौर एआईसीसी ऑब्‍जर्वर भूमिका निभाई थी। राज्‍य में कुल छह कांग्रेस विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की थी। माना जा रहा है कि यह पार्टी के प्रति असंतोष का नतीजा है। आजाद के सामने इस असंतोष को रोकने की बड़ी चुनौती होगी।

READ ALSO: पंजाब में ड्रग्‍स के खिलाफ जंग छेड़ने निकले हैं राहुल गांधी, Twitter पर उड़ी खिल्‍ली

Next Stories
1 राज्‍यसभा चुनाव: क्रॉस वोटिंग के डर से कांग्रेस ने लखनऊ बुलाए सभी विधायक, बैठक के बाद दिया डिनर
2 प्रीति महापात्रा के पक्ष में हो सकती है क्रॉस वोटिंग, मायावती ने बुलाई विधायकों की बैठक
3 55 साल के बुजुर्ग की हत्‍या, पुलिस ने माना-गोहत्‍या और पशु तस्‍करी की देता था जानकारी
चुनावी चैलेंज
X