ताज़ा खबर
 

‘रिटायर हो रहा हूं, कहीं का अध्यक्ष बनवा दीजिए’, राम मंदिर की कसम लेने वाले पुलिस अफसर की योगी को लिखी चिट्ठी वायरल

चिट्ठी में आगे लिखा गया, 'मैं रिटायर होने वाला हूं। अलग-अलग विभागों में जो पद खाली हैं, उनमें से कहीं का अध्यक्ष बनवा दीजीए।'

आईपीएस अधिकारी शुक्ला का फरवरी में एक वीडियो वायरल हुआ। वायरल वीडियो में वह कह रहे थे, ‘आज हम राम भक्त, इस कार्यक्रम का दौरान यह संकल्प लेते हैं कि जल्द से जल्द राम मंदिर का भव्य निर्माण हो। जय श्री राम।’ (फोटो सोर्स ट्विटर)

उत्तर प्रदेश के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, जो इस साल की शुरुआत में कैमरे पर आकर अयोध्या में राम मंदिर बनवाने के लिए कह रहे थे, 31 अगस्त को रिटायर होने से कुछ दिन पहले एक बार फिर विवादों में आ गए हैं। दरअसल आईपीएस अधिकारी सुर्यकुमार शुक्ला ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ को एक चिट्ठी लिखी है जो काफी वायरल हो रही है। यह चिट्ठी 23 जुलाई को भेजी गई थी। सीएम योगी को भेजी चिट्ठी में आईपीएस अधिकारी ने लिखा है कि वह साल 2019 में सत्तापक्ष भाजपा के पक्ष में प्रचार करने के लिए उत्सुक हैं। सेवानिवृत्ति के बाद दूसरी नौकरी के लिए भी उन्होंने कई विभागों का हवाला दिया है। चिट्ठी में लिखा गया है, ‘मैं रिटायर होने वाला हूं। अलग-अलग विभागों में जो पद खाली हैं, उनमें से कहीं का अध्यक्ष बनवा दीजिए।’ चिट्ठी के मुताबिक सुर्यकुमार की प्राथमिकता है कि सेवानिवृत्ति के बाद सीएम योगी उन्हें राज्य के योजना आयोग का प्रमुख बना दें। इसके अलावा उनकी प्राथमिकता में राज्य का प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का अध्यक्ष बनने की भी है।

मामले में जब एक न्यूज चैनल ने उनसे बात की तो उन्होंने इस बात से इनकार नहीं किया। उन्होंने कहा, ‘चिट्ठी की पुष्ठि या इससे इनकार नहीं कर सकते। मगर हां, हर अधिकारी रिटायरमेंट के बाद राज्य की सेवा करना चाहता है। और पुलिस विभाग में मेरा रिकॉर्ड तो बेदाग रहा है, तो सरकार को इस तरह का प्रस्ताव देने में गलत क्या है?’

बता दें कि आईपीएस अधिकारी शुक्ला का फरवरी में एक वीडियो वायरल हुआ। वायरल वीडियो में वह कह रहे थे, ‘आज हम राम भक्त, इस कार्यक्रम का दौरान यह संकल्प लेते हैं कि जल्द से जल्द राम मंदिर का भव्य निर्माण हो। जय श्री राम।’ बाद में जब यह वीडियो वायरल हुआ तो उन्होंने अपने बचाव में कहा कि उनके बयान की गलत व्याख्या की गई और वीडियो से भी छेड़छाड़ की गई।

तब उन्होंने कहा कि, ‘मैं एकता का माहौल बनाने के लिए संकल्प ले रहा था, लेकिन जो वीडियो वायरल हुआ है उससे छेड़छाड़ की गई और शरारत पैदा करने के लिए वीडियो के कुछ हिस्से को डिलीट कर दिया गया है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App