ताज़ा खबर
 

यूपी: तीन तलाक कहकर पत्नी से पीछा छुड़ाना चाहता था शख्स, पंचायत ने लगाया दो लाख रुपये का जुर्माना

पंचायत ने मेहर के तौर पर 60 हजार रुपये तथा दहेज में दिया गया सोफा, बेड, मोटरसाइकिल, बर्तन इत्यादि सारा सामान लड़की पक्ष को वापस दिलाया।

Author June 12, 2017 21:29 pm
सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगर कोई पति एक बार में तीन तलाक बोलता है, तो अब विवाह समाप्त नहीं होगा। (Photo Source: Twitter)

उत्तर प्रदेश के सम्भल जिले में मुसलमानों की तुर्क बिरादरी की पंचायत ने एक ही बार में तीन तलाक कहने वाले व्यक्ति को फटकार लगाते हुए उस पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। पंचायत की अध्यक्षता करने वाले शाहिद हुसैन ने भाषा को बताया कि सदिरनपुर गांव निवासी 22 वर्षीय एक युवती का निकाह मूसापुर गाँव के 45 साल के एक व्यक्ति से एक साल पहले हुआ था। निकाह के बाद से ही पति-पत्नी के रिश्तों में तल्खी रहने लगी थी। करीब दस दिन पहले दोनों की आपस में कहा-सुनी हुई जिसके बाद पति ने गुस्से में तीन बार तलाक कह दिया। उन्होंने बताया कि इस मामले को लेकर तुर्क बिरादरी की पंचायत सम्भल के रायसती स्थित मदरसा खलील उल उलूम में सम्पन्न हुई। इसमें 52 गांव के तुर्क बिरादरी के लोग शामिल हुए थे। पंचायत में सभी के बीच चर्चा हुई, जिसमें पंचायत ने एक साथ तीन तलाक देने को गंभीर मामला माना और तीन तलाक देने वाले व्यक्ति पर सर्वसम्मति से दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया। उस व्यक्ति ने पंचायत की बात मानते हुए मौके पर ही जुर्माने की रकम अदा कर दी।

हुसैन ने बताया कि पंचायत ने मेहर के तौर पर 60 हजार रुपये तथा दहेज में दिया गया सोफा, बेड, मोटरसाइकिल, बर्तन इत्यादि सारा सामान लड़की पक्ष को वापस दिलाया। मालूम हो कि तुर्क बिरादरी ने एक साथ तीन तलाक कहने पर अपने समाज में पहले ही रोक लगा रखी थी। उसके बाद आये तीन तलाक के इस पहले मामले में पंचायत ने बड़ा जुर्माना लगा कर समाज को कड़ा संदेश दिया है। ज्ञातव्य है कि तुर्क बिरादरी के लोगों ने अपने समाज में दहेज प्रथा, शादियों में फुजूल खर्ची, शादियों में डीजे या डांस पार्टी बुलाने इत्यादि पर पाबंदी लगा रखी है।

बता दें कि मुस्लिम समाज में तीन तलाक के खिलाफ जोरदार बहस चल रही है। मुस्लिम महिलाओं ने इस प्रथा के खिलाफ आवाज उठा रखी है और उसे बंद करने की मांग कर रही है। सुप्रीम कोर्ट में भी इस मुद्दे पर सुनवाई चल रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App