मुलायम सिंह के खिलाफ तहरीर दी आइपीएस ने, लगाया धमकाने का आरोप - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मुलायम सिंह के खिलाफ तहरीर दी आइपीएस ने, लगाया धमकाने का आरोप

उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ आइपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के खिलाफ शनिवार को हजरतगंज थाने में तहरीर दी...

Author July 12, 2015 9:23 AM
आइपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने मुलायम सिंह यादव पर धमकाने का आरोप लगाया है।

उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ आइपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के खिलाफ शनिवार को हजरतगंज थाने में तहरीर दी। उन्होंने तहरीर में मुलायम पर धमकाने का आरोप लगाया है। ठाकुर इस वक्त पुलिस महानिरीक्षक (नागरिक सुरक्षा) के पद पर तैनात हैं। उन्होंने मुलायम सिंह के साथ फोन पर हुई बातचीत को भी सार्वजनिक किया।

ठाकुर की पत्नी नूतन ठाकुर ने शनिवार देर रात मीडिया को बातचीत संबंधी क्लिप भी मेल कर दिया। जिस नंबर से अमिताभ ठाकुर को धमकी देने की बात कही गई है, मेल में उसका पूरा ब्योरा है। नूतन ठाकुर का दावा है कि यह टेलीफोन नंबर मुलायम सिंह यादव के आवास पांच, विक्रमादित्य मार्ग का है।

मुलायम सिंह की धमकी के मामले में एफआइआर कराने अमिताभ ठाकुर शनिवार को दिन में 11 बजे हजरतगंज कोतवाली पहुंचे। पुलिस को दिए प्रार्थनापत्र में अमिताभ ने को मुलायम सिंह यादव की ओर से उन्हें फोन पर धमकी देने के मामले का जिक्र किया और भारतीय दंड विधान की धारा 506 के तहत मामला दर्ज करने को कहा। कोतवाली के इंस्पेक्टर विजय पाल सिंह यादव ने पहले प्राथर्नापत्र लेने से मना कर दिया। बाद में अमिताभ के वहीं बैठ जाने की बात कहने पर प्राथर्नापत्र तो ले लिया गया, लेकिन रपट दर्ज नहीं की। उन्होंने कहा कि जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस को दिए प्राथर्नापत्र में मुलायम सिंह यादव के साथ हुई बातचीत लिपिबद्ध है। प्रार्थनापत्र में ‘जसराना वाली घटना भूल गए, अब आपके साथ वही करना पड़ेगा। जसराना में आपके साथ जो हुआ था, उससे भी ज्यादा अब हो जाएगा, सुधर जाओ’ जैसी बातें जो मुलायम सिंह से धमकी देते हुए कहीं थीं, उनका हवाला दिया गया है। अमिताभ का आरोप है कि उन्हें खनन मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ लोकायुक्त मामले की शिकायत की वजह से धमकी दी गई।

जसराना की घटना की बाबत नूतन ठाकुर कहती हैं कि अमिताभ वर्ष 2006 में फिरोजाबाद में एसपी थे। उस वक्त मुलायम सिंह यादव मुख्यमंत्री थे। उस समय उनके समधी जसराना विधायक ने अपने गांव पैडत में डीएम फिरोजाबाद संयुक्ता समद्दार के साथ वीआइपी कार्यक्रम की तैयारी देखने गए मेरे पति को बुलाया, जहां उन पर कातिलाना हमला किया गया। उनका आरोप है कि उस घटना की एफआइआर दर्ज न करने को मुख्यमंत्री ने उनसे कहा था। बावजूद इसके अमिताभ ने भी थाना एका में एफआइआर दर्ज कराई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App