ताज़ा खबर
 

यादव सिंह की 19 करोड़ की संपत्ति कुर्क, ED ने परिवार की चार कंपनियों के खिलाफ उठाया कदम

डासना जेल में बंद आरोपी नोएडा के पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह की 19.92 करोड़ की संपत्ति प्रवर्तन निदेशालय ने इस बार कुर्क की है।

Author नई दिल्ली | January 17, 2017 2:49 AM
अगस्त 2015 को सीबीआई ने 954.38 करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार के संबंध में यादव सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नोएडा विकास प्राधिकरण के चर्चित मुख्य अभियंता यादव सिंह के खिलाफ अपनी जांच के तहत आरोपी की 19 करोड़ से अधिक की संपत्ति कुर्क कर ली।
जांच एजंसी ने अपनी इस कार्रवाई के तहत यादव सिंह के परिवार व उनके करीबियों के नाम से चल रही चार अलग-अलग कंपनियों के खिलाफ कदम उठाया है। निदेशालय इस मामले की जांच हाई कोर्ट के आदेश पर कर रही है। जिन कंपनियों की संपत्ति जब्त की गई है उनमें मेसर्स एनकेजी इंफ्रास्ट्रक्चर, जेएसपी प्रा. लि., मेसर्स तिरुपति कंस्ट्रक्शंस व मेसर्स कुसुम गार्मेंट्स के नाम शामिल हैं।

डासना जेल में बंद आरोपी नोएडा के पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह की 19.92 करोड़ की संपत्ति प्रवर्तन निदेशालय ने इस बार कुर्क की है। इसी मामले में फरार चल रही यादव सिंह की पत्नी कुसुमलता और ठेकेदार पंकज जैन की आंशिक संपत्ति सीबीआइ ने दिसंबर में जब्त कर ली थी।  मेसर्स कुसुम गारमेंट्स यादव सिंह की पत्नी कुसुमलता के नाम पर है। कोर्ट ने पिछले दिनों नाराजगी जताते हुए सीबीआइ को निर्देश दिया था कि आरोपियों की तमाम संपत्ति को कुर्क करके 20 जनवरी तक रिपोर्ट कोर्ट में पेश की जाए। ईडी ने अब की गई अपनी इस कार्रवाई की रिपोर्ट अदालत में दे दी है।

निदेशालय के अधिकारियों के अनुसार इस मामले की जांच दन शोधन कानून के तहत की गई। अधिकारियों ने बताया कि जांच में सामने आया कि जिन कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की गई उनमें मेसर्स एनकेजी इंफ्रास्ट्रक्चर ने तो उसे ठेका आबंटित होने के खासा पहले ही काम कराना शुरू कर दिया था। अधिकारियों के मुताबिक इससे यह साबित होता है कि आरोपी कंपनी और यादव सिंह में आपस में कोई आपराधिक मिलीभगत थी। जांच में यह भी सामने आया है कि इनमें से तीन कंपनियों ने ठेके हासिल करने के लिए जो अर्नेस्ट मनी जमा कराया, वह एक-दूसरी कंपनी के फिक्सड डिपाजिट के खातों से कराया गया। इससे इन कंपनियों की आपसी सांठगांठ साबित होती है।ईडी के मुताबिक उसने मेसर्स तिरुपति की पांच करोड़ 11 लाख, मेसर्स एनकेजी की चार करोड़ 52 लाख, मेसर्स जेएसपी की नौ करोड़ 97 लाख और मेसर्स कुसुम गारमेंट्स की 50 लाख रुपए की संपत्ति जब्त की गई है।

 

 

अखिलेश को मिली साइकिल और पार्टी, मुलायम को झटका: चुनाव पर होगा कैसा असर?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App