ताज़ा खबर
 

मायावती पर अभद्र टिप्पणी: आरोपी नेता दयाशंकर की गिरफ्तारी के प्रयास, भाई हिरासत में

लखनऊ में अपने विरुद्ध मुकदमा दर्ज होने के बाद दयाशंकर सिंह भूमिगत हो गए हैं। उनका मोबाइल फोन भी स्विच ऑफ है।

Author बलिया | July 21, 2016 5:23 PM
निलंबित भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश के पार्टी उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह। (फाइल फोटो)

बसपा मुखिया मायावती पर ‘अभद्र’ टिप्पणी करने के आरोप में भाजपा से छह वर्ष के लिए निष्कासित दयाशंकर सिंह ने पलटवार करते हुए कहा है कि मायावती ने राज्यसभा में बुधवार (20 जुलाई) को अपने भाषण के जरिए महिलाओं का अपमान किया है। अभद्र टिप्पणी को लेकर मुकदमा दर्ज होने के बाद सिंह की गिरफ्तारी के प्रयास कर रही पुलिस ने पूछताछ के लिए उनके भाई को हिरासत में ले लिया है। मायावती पर टिप्पणी को लेकर कार्रवाई के बाद भूमिगत हुए सिंह ने इससे पहले बुधवार (20 जुलाई) रात कहा कि वह बसपा मुखिया के बारे में दिए गए बयान को लेकर माफी मांग चुके हैं, लेकिन मायावती ने बुधवार (20 जुलाई) राज्यसभा में जिस तरह उनकी मां, बहन और बेटी को लेकर बयान दिया है, उस तरह उन्होंने भी महिलाओं का अपमान किया है। यह पूछे जाने पर कि क्या वह राज्यसभा में दिए गए बयान को लेकर बसपा मुखिया के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे, सिंह ने कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।

इस बीच, पुलिस अधीक्षक मनोज झा ने बताया कि सिंह की गिरफ्तारी के लिए बुधवार (20 जुलाई) रात उनके आवास पर दबिश दी गयी थी लेकिन वह वहां नहीं मिले। बहरहाल, उनके भाई धर्मेन्द्र सिंह को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस को भरोसा है कि सिंह बलिया में ही हैं और वह कहीं जाने न पाएं, इसके लिये जिले की सभी सीमाओं पर नाकाबंदी की गयी है। सिंह के भाई को हिरासत में लिए जाने के विरोध में उनके समर्थक पुलिस लाइन में धरने पर बैठ गए हैं।

मायावती पर टिप्पणी के बाद भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष पद से हटाए गए सिंह ने कहा कि भाजपा से निष्कासन का फैसला उन्हें स्वीकार है। अगले कदम के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वह राजनेता हैं और सियासत के जरिए जनसेवा करते रहेंगे। सिंह ने कहा कि उन्होंने बसपा मुखिया को सीधे तौर पर कुछ नहीं कहा है। वह बहुत बड़ी नेता हैं और चार बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। इस बीच, बसपा के आंदोलन को देखते हुए दयाशंकर सिंह के बलिया स्थित निवास पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। सिंह के बलिया में ही भूमिगत होने की चर्चा है।

मालूम हो कि भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने पिछले दिनों मऊ में संवाददाताओं से बातचीत में बसपा अध्यक्ष मायावती पर अभद्र टिप्पणी करते हुए उन पर ज्यादा से ज्यादा धन देने वालों को पार्टी का चुनाव टिकट बेचने का आरोप लगाया था। हालांकि मामला तूल पकड़ने पर उन्होंने माफी भी मांग ली थी। बहरहाल, उन्हें पार्टी उपाध्यक्ष पद से हटा दिया गया था और देर रात उन्हें भाजपा से छह साल के लिए निकाल दिया गया था। बसपा ने पार्टी मुखिया मायावती के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करने के मामले में भाजपा नेता दयाशंकर सिंह के खिलाफ बुधवार (20 जुलाई) देर रात राजधानी की हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज करा दिया। बसपा नेता मेवालाल गौतम की तरफ से दर्ज प्राथमिकी में सिंह के खिलाफ अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार निरोधक अधिनियम तथा भारतीय दंड सहिता की धाराएं लगायी गयी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X