ताज़ा खबर
 

काम में देरी होने पर केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के घर में बंद किए गए CPWD के जेई और ठेकेदार

मोदी सरकार में मंत्री अनुप्रिया पटेल के घर में केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (CPWD) के जूनियर इंजीनियर और कॉन्ट्रैक्टर को बंधक बनाने का मामला सामने आया है।

Author नई दिल्ली | September 10, 2016 6:43 PM
केंद्रीय स्वास्‍थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल। (फाइल फोटो)

मोदी सरकार में मंत्री अनुप्रिया पटेल के घर में केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (CPWD) के जूनियर इंजीनियर और कॉन्ट्रैक्टर को बंधक बनाने का मामला सामने आया है। दोनों का आरोप है कि काम में देरी होने चलते उनको स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल के घर में बंद कर दिया गया। कॉन्ट्रैक्टर ने बताया कि काम में देरी होने पर बताया गया कि हमें बंद किया जा रहा है। उन्होंने एएनआई से कहा कि आज टाइल्स आने थे लेकिन अब कल सुबह आएंगे। जिसके बाद मंत्री के परिवार ने हम पर काम लेट करने का आरोप लगाते हुए बंद कर दिया।

घर में जेई और ठेकेदार को बंद करने के आरोपों पर अनुप्रिया पटेल ने सफाई दी कि ठेकेदार गलत इरादों से उनके यहां आए थे और काफी दिनों काम आगे नहीं बढ़ा है। इसे छुपाने के लिए ही वे ऐसे आरोपों लगा रहे हैं।  उनके पति आशीष सिंह ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि आरोप बेबुनियाद है। उन्होंने कहा, मैं बंगले का इंचार्ज नहीं हूं और मैं घर के अंदर था जब मुझे कहासुनी की आवाज सुनाई दी। जब मैं बाहर आया तो देखा कि मंत्री के स्टाफ उनसे काम लेट होने के लिए उन कर्मचारियों से बात कर रहे थे। अगर किसी को ऐसा लगता है कि हमने उनको बंधक बनाया है तो उन्हें हमारे खिलााफ सख्त कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए।

वहीं बंधकों को छुड़ाने गए CPWD के अस्सिटेंट इंजीनियर अजमेर सिंह ने कहा कि अगर काम चल रहा है तो किसी कारण से लेट हो सकता है। किसी को इस तरह से घर में एक-दो घंटे के लिए बंद करना ठीक नहीं है। जैसे ही बंधकों ने हमें इस बात की जानकारी दी हम तुरंत उन्हें बचाने के लिए निकल गए। उन्होंने कहा कि इस मामले में मंत्री से बात करेंगे। लेकिन हम पुलिस में शिकायत नहीं करेंगे। हम उनसे (मंत्री) कोई मनमुटाव नहीं करना चाहते। हम नगर निकाय कर्मचारी है। हम सिर्फ काम करने आते हैं। पहली बार हमारे साथ इस तरह की घटना घटी है।

गौरतलब है कि अनुप्रिया पटेल अपना दल से सांसद है और एनडीए सरकार में बीजेपी की सहयोगी है। माना जाता है कि अपना दल का कुर्मियों में खासा प्रभाव है। आम चुनाव में बीजेपी और अपना दल का गठबंधन हुआ था। चुनाव में अपना दल को दो सीटें मिली थी और दोनों सीटें पार्टी की झोली में गई थीं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App