ताज़ा खबर
 

जिन्ना तस्वीर विवाद: अब शहर के पेशाबघरों में चिपकाए गए पाकिस्तान संस्थापक के पोस्टर

बाथरूम में जिन्ना की तस्वीर लगाने पर हिंदू युवा वाहिनी के अलीगढ़ जिला उपाध्यक्ष अदित्य पंडित ने बचाव किया है। उन्होंने कहा कि राज्य के सीएम पहले साफ कर चुके हैं कि जिन्ना भारत के लिए मान्नीय कभी नहीं हो सकते।

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना (फाइल फोटो)

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में मुहम्मद अली जिन्ना तस्वीर विवाद शनिवार (5 मई, 2018) को तब और ज्यादा बढ़ गया जब देव समाज कॉलेज के कुछ छात्रों, दक्षिणपंथियों द्वारा समर्पित, ने पाकिस्तान संस्थापक के पोस्टर कॉलेज और शहर के पेशाबघरों में चिपका दिए। यह घटना उस समय की है जब एएमयू के संस्थापक सैयद अहमद खान की तस्वीर पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस से गायब हो गई। मामले में अलीगढ़ जिला मजिस्ट्रेट कहना है कि उन्होंने दोनों घटनाओं में एसडीएम से रिपोर्ट मांगी है। डीएम ने इसके साथ ही कहा है कि पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस राज्य सरकार की प्रोपर्टी है और तस्वीरों पर निर्णय सरकार द्वारा लिया जाता है। दूसरी तरफ पेशाबघर में जिन्ना की तस्वीर लगाने वालों में एक छात्र ने टीओआई को बताया कि भारत के टुकड़े करने वालों का सही स्थान बाथरूम ही है। ऐसे लोगों को लिए को शैक्षिक संस्थानों में कोई जगह नहीं है। जो पोस्टर चिपकाए गए उनमें लिखा गया है, ‘जिन्ना का स्थान एएमयू नहीं बल्कि भारत के लघुशंका घरों (बाथरूम) में है।’ दूसरी तरफ डीएस कॉलेज के प्रिंसिपल ने मामले में सफाई देते हुए कहा कि माहौल खराब करने के लिए कुछ अराजक तस्वों ने ऐसा किया है। मुझे जैसे ही उन पोस्टरों के बारे में पता चला मैंने उन्हें तुरंत हटा दिया।

बता दें कि कॉलेज के ही कुछ छात्रों ने इस प्रकरण में खुद के शामिल होने की बात को स्वीकार किया है। इनमें एक एबीवीपी के कार्यकर्ता अमित गोस्वामी ने कहा कि उन्होंने जिन्ना की तस्वीर कॉलेज के बाथरूम में चिपकाई है। ये एक संदेश है जिन्ना के समर्थकों के लिए। गोस्वामी ने आगे कहा कि एएमयू छात्र यूनियन को तुरंत जिन्ना की तस्वीर यूनियन हॉल से हटानी चाहिए। बाथरूम में जिन्ना की तस्वीर लगाने पर हिंदू युवा वाहिनी के अलीगढ़ जिला उपाध्यक्ष अदित्य पंडित ने बचाव किया है। उन्होंने कहा कि राज्य के सीएम पहले साफ कर चुके हैं कि जिन्ना भारत के लिए मान्नीय कभी नहीं हो सकते। इसलिए उनकी तस्वीर के लिए बाथरूम सही जगह है।

इस दौरान शिवसेना की स्थानीय बॉडी ने घोषणा की कि जो जिन्ना की तस्वीर हटाएगा उसे पांच लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा। शिवसेना के स्थानीय यूनिट के इंचार्ज अजय चौधरी ने कहा कि कोई भी शख्स, किसी भी जाति या धर्म का, जो जिन्ना की तस्वीर हटाएगा और पार्टी की तरफ से पांच लाख रुपए का नकद इनाम दिया जाएगा। चौधरी ने इसके साथ ही एएमयू प्राधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App