ताज़ा खबर
 

मंत्री बनने के बाद पहली बार लखनऊ गईं अनुप्रिया पटेल, हुई FIR

केंद्रीय स्वास्‍थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल के साथ समर्थकों की लगभग 200 गाड़ियां चल रही थीं। इस वजह से हजरतगंज में भयानक ट्रेफिक जाम लग गया।

anupriya patel, Lucknow, firकेंद्रीय स्वास्‍थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल। (फाइल फोटो)

केंद्रीय स्वास्‍थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल शनिवार (7 अगस्त) को पहली बार लखनऊ गई थीं। अपने पहले दौरे के दौरान ही उनपर FIR दर्ज हो गई है। दरअसल, अनुप्रिया के लखनऊ में बने चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पहुंचने की बात जैसे ही उनके समर्थकों को पता चली वे सभी उन्हें लेने के लिए एयरपोर्ट पहुंच गए। TOI के मुताबिक, लगभग 200 गाड़ियों का काफिला अनुप्रिया पटेल के साथ चल रहा था। ये गाड़ियां अनुप्रिया के साथ हजरतगंज तक गईं जहां रास्ते में उन्होंने अंबेडकर महासाभा और सरदार वल्लभ भाई के एक स्मारक पर पुष्प भी अर्पित किए।

इतने लोगों के साथ चलने की वजह से वहां की सड़क का ट्रेफिक अस्त-व्यस्त हो गया। जहां-जहां अनुप्रिया रुकीं, वहां सारी गाड़ियां भी रुकीं। ऐसे में सभी ने गाड़ियां सड़क पर जहां मर्जी खड़ी कर दी और कई जगहों पर भयानक जाम लग गया। इसको लेकर हजरतगंज थाने में उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई गई। हजरतगंज थाने के इंस्पेक्टर विजयमल यादव ने भी माना कि लखनऊ के लोगों को अनुप्रिया पटेल के आने पर काफी परेशानी हुई। विजयमल ने बताया कि अनुप्रिया के खिलाफ सरकार से बिना परमिशन लिए इतने लोगों को लेकर निकलने के लिए मामला दर्ज कर लिया है। उनपर धारा 143, 188 और 341 लगाई गई है। इसके साथ ही अनुप्रिया की गाड़ी समेत लगभग 150 और गाड़ियां के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

Read Also: अनुप्रिया पटेल की मां ने कहा- जो मेरी नहीं हुई, वह मोदी की क्या होगी?

अनुप्रिया पटेल मोदी सरकार में नया चेहरा हैं। उन्‍हें पांच जुलाई को राज्‍य मंत्री की शपथ दिलाई गई। वह युवा हैं। सांसद हैं। महत्‍वाकांक्षी हैं। बीजेपी को शायद उनमें बड़ी संभावना दिखी है। खास कर यूपी चुनाव के संदर्भ में। बीजेपी मिर्जापुर से सांसद अनुप्रिया को भाजपा में लेकर ओबीसी चेहर के रूप में यूपी में प्रोजेक्‍ट कर सकती है। लेकिन, वह खुद पारिवारिक झगड़े में फंसी है। झगड़ा भी इस हद तक है कि अनुप्रिया पटेल को उन्‍हीं के अपना दल ने पार्टी से निष्‍कासित कर दिया था। ऐसे में वह भाजपा के लिए कितना फायदेमंद हो पाएंगी, यह वक्‍त ही बता पाएगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भाजपा से निकाले गए दयाशंकर जेल से रिहा, मायावती को दी चुनौती
2 पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले विधायक को सपा ने निकाला, ​मुलायम के भतीजे पर लगाया था गोहत्‍या का आरोप
3 UP में 5 साल की दलित लड़की से बलात्कार, सोती हुई को घर से उठाया था, परिवार को खेत में पड़ी मिली
ये पढ़ा क्या?
X