BJP wants Uttar Pradesh elections in Mid February to cash demonetisation - नोटबंदी का फायदा लेने के लिए उत्‍तर प्रदेश में जनवरी-फरवरी में चुनाव चाहती है भाजपा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

नोटबंदी का फायदा लेने के लिए उत्‍तर प्रदेश में जनवरी-फरवरी में चुनाव चाहती है भाजपा

पार्टी का मानना है कि इस समय पर चुनाव होने से उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के चलते बने माहौल को भुनाने में मदद मिलेगी।

Author February 15, 2017 11:31 AM
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह। (फाइल फोटो)

भाजपा उत्‍तर प्रदेश में मध्‍य फरवरी के दौरान बोर्ड परीक्षाओं से पहले चुनाव चाहती है। पार्टी का मानना है कि इस समय पर चुनाव होने से उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के चलते बने माहौल को भुनाने में मदद मिलेगी। इधर, यूपी माध्‍यमिक शिक्षा परिषद ने चुनाव आयोग को बताया कि परीक्षाएं 18 फरवरी से 22 मार्च के बीच आयोजित होंगी। भाजपा सूत्रों के अनुसार राज्‍य यूनिट ने राष्‍ट्रीय नेतृत्‍व को बता दिया है कि जनवरी-फरवरी के बीच चुनाव होने पर सबसे ज्‍यादा फायदा होगा। पार्टी के कई नेता परीक्षाओं के बाद चुनाव नहीं चाहते क्‍योंकि नेतृत्‍व नोटबंदी के असर को नहीं जान पाएगा।

पार्टी के एक नेता ने बताया, ”राज्‍य इकाई का मानना है कि यदि चुनाव बोर्ड परीक्षाओं से पहले होते हैं तो हम चुनाव आसानी से जीत लेंगे क्‍योंकि मोदीजी की लोकप्रियता और सरकार द्वारा कालेधन व भ्रष्‍टाचार के खिलाफ उठाए गए कदमों की सराहना उस समय तक जोरदार होगी।” उन्‍होंने कहा कि दो-तीन महीने बाद नोटबंदी के असर को ना तो राज्‍य और ना केंद्रीय नेतृत्‍व जान पाएगा। यह अभी भी संदिग्‍ध है। मार्च के अंत तक चुनाव का इंतजार करना जोखिमभरा होगा। सूत्रों ने आगे बताया कि यदि चुनाव 18 फरवरी से पहले होते हैं तो चुनाव आयोग को अगले कुछ दिन में तारीखों का एलान करना होगा।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017: किसके बीच है मुकाबला, कौन रहा है विजेता जानिये   

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App