ताज़ा खबर
 

बीजेपी नेता साक्षी महाराज ने कहा- बाबर विदेशी था, उसका भारत में कुछ भी नहीं

सांसद साक्षी महाराज बोले, यह राम जन्मभूमि, मीडियो को बार-बार 'बाबरी' नहीं कहना चाहिए।
बाबरी विध्वंस मामले में केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा था कि ये खुला आंदोलन था जैसे इमरजेंसी के खिलाफ हुआ था। (Photo: ANI)

भाजपा नेता व सांसद साक्षी महाराज ने मीडिया के खिलाफ सख्त रुख अपनाया है। साक्षी महाराज ने कहा कि बाबर एक विदेशी था। भारत में उसका कुछ भी नहीं है। बाबरी मस्जिद मामले को लेकर उन्होंने कहा कि मीडिया को बार-बार ‘बाबरी’ नहीं कहना चाहिए। यह राम जन्मभूमि है। वहीं इससे पहले बाबरी विध्वंस मामले में केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा था कि ये खुला आंदोलन था जैसे इमरजेंसी के खिलाफ हुआ था। इस आंदोलन में क्या साजिश थी मुझे अभी तक नहीं पता है। आज (30 मई ) कोर्ट में बाबरी मामले की सुनवाई होनी है। इससे पहले कोर्ट ने कहा था कि अब छूट या सुनवाई स्थगित करने का कोई आवेदन स्वीकार नहीं किया जाएगा। कोर्ट अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाये जाने से जुडे़ दो अलग अलग मामलों की सुनवाई कर रही है। महंत नृत्य गोपाल दास, महंत राम विलास वेदान्ती, बैकुण्ठ लाल शर्मा उर्फ प्रेमजी, चंपत राय बंसल, महंत धर्म दास और सतीश प्रधान को भी एक मामले में मंगलवार (30मई) को ही तलब किया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 19 अप्रैल को निर्देश दिया था कि आडवाणी (89), जोशी (83) और उमा (58) के अलावा बाकी सभी आरोपियों पर बाबरी ढांचा ढहाए जाने के मामले में आपराधिक षड्यंत्र का मुकदमा चलेगा। कोर्ट ने मामले की सुनवाई रोजाना कराने और दो साल में सुनवाई समाप्त करने का निर्देश दिया। उच्चतम न्यायालय ने कहा था कि बीजेपी नेता कल्याण सिंह जब तक राज्यपाल के पद पर हैं, उनके खिलाफ मुकदमा नहीं चल सकता। राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, उसी समय ढांचा ढहाया गया था।

बाबरी विध्वंस को लेकर दो मामले दर्ज किए गए थे। एक बाबरी मस्जिद को गिराने वाले आरोपी कारसेवकों पर चल रहा है और दूसरा मामला लोगों को उकसाने और साजिश रचने के लिए दर्ज किया गया, जिसमें आडवाणी समेत 13 लोगों के नाम शामिल हैं। साल 2001 में सीबीआई की कोर्ट ने उनके खिलाफ साजिश का मामला खारिज कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.