sealdah ajmer Express Derail near kanpur 52 Injured, Shatabdi Cancel - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बेपटरी हुई सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस, 52 लोग घायल, शताब्दी रद्द, कई ट्रेनोंं का रूट बदला

पिछले करीब पांच सप्ताह में यह दूसरी रेल दुर्घटना है। पिछला हादसा 20 नवंबर को पुखरायां में हुआ था, जिसमें 150 से ज्यादा लोग मारे गए थे।

Author कानपुर | December 28, 2016 9:36 PM
लखनऊ में पीएम मोदी की महारैली से पहले हादसे की साजिश रचने की कोशिश ( file photo)

उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात जिले के रूरा रेलवे स्टेशन के पास बुधवार (28 दिसंबर) सुबह अजमेर-सियालदह एक्सप्रेस ट्रेन (12987) के 15 डिब्बे पटरी से उतर गये। रेलवे के अनुसार हादसे में 52 लोगों के घायल होने की सूचना है, हालांकि संख्या में वृद्धि हो सकती है। वहीं स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि मामूली रूप से घायल करीब 65 यात्रियों को प्राथमिक उपचार के बाद अस्पताल से घर भेज दिया गया है। इस रेल मार्ग पर पिछले करीब पांच सप्ताह में यह दूसरी रेल दुर्घटना है। पिछला हादसा 20 नवंबर को पुखरायां में हुआ था, जिसमें 150 से ज्यादा लोग मारे गए थे और करीब 200 लोग घायल हुए थे।

कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक जकी अहमद ने पहले बताया था कि हादसे में गंभीर रूप से घायल दो लोगों मौत हुई है। लेकिन उत्तर मध्य रेलवे (एसीआर) के महाप्रबंधक अरूण सक्सेना ने बताया कि उनकी मेडिकल टीम घटनास्थल पर है और उनके पास अभी तक किसी के मरने की सूचना नहीं है। हादसे में मरने वालों पर अहमद और सक्सेना के बयानों को लेकर लोगों में भ्रम की स्थिति है। कानपुर के मुख्य चिकित्साधिाकरी डॉक्टर रामायण प्रसाद भी ट्रेन दुर्घटना में किसी के मरने की बात से इनकार कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि दुर्घटना में घायल हुए लोगों में से 42 लोगों का इलाज कानपुर देहात के माती जिला अस्पताल में चल रहा है जबकि गंभीर रूप से घायल 12 लोगों को कानपुर मेडिकल कॉलेज के हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

उत्तर मध्य रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी अमित मालवीय ने बताया कि आज सुबह करीब साढ़े पांच बजे अजमेर-सियालदह एक्सप्रेस ट्रेन के शयनयान श्रेणी के 13 डिब्बे और सामान्य श्रेणी के दो डिब्बे पटरी से उतर गये। इनमें से दो डिब्बे एक सूखी नहर में गिर गये, जबकि एक डिब्बा पटरी से नीचे लटक रहा था। हालांकि नहर में पानी नहीं होने के कारण कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। उन्होंने कहा, हादसे के कारणों का पता अभी तक नहीं चल सका है। इंजन से ट्रेन के छटवें डिब्बे से 20वें डिब्बे पटरी से उतरे हैं।

कानपुर देहात के पुलिस अधीक्षक प्रभाकर चौधरी के मुताबिक दुर्घटनाग्रस्त हुए डिब्बों में फंसे सभी यात्रियों को बाहर निकाल लिया गया है। सुरक्षित यात्रियों को बस से कानपुर रेलवे स्टेशन पहुंचाया जा रहा है। घायलों को अस्पताल ले जाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के 14 एम्बुलेंस सेवा दे रहे हैं। रूरा स्टेशन के पास सुबह करीब साढ़े पांच बजे हुये इस हादसे के बाद ट्रेन में यात्रियों में चीख पुकार मच गयी है। हादसा चूंकि रूरा रेलवे स्टेशन के निकट हुआ था इसलिये आनन फानन में रेलवे के कर्मचारी पहुंच गये और राहत बचाव का काम जल्द शुरू हो गया। अमित मालवीय के अनुसार कानपुर और टुंडला स्टेशनों से रिलीफ ट्रेने रवाना कर दी गयी हैं तथा ट्रेन के बाकी बचे यात्रियों को कानपुर स्टेशन लाने के लिये बसों की व्यवस्था की गयी है। दुर्घटनाग्रस्त ट्रेन में अब कोई भी घायल या सामान्य यात्री नहीं है।

रेलवे के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गये हैं। मामले की जांच की जा रही है। ट्रेन दुर्घटना के कारण दिल्ली हावड़ा रूट पर यातायात रोक दिया गया है। करीब एक दर्जन ट्रेनों का रास्ता बदल दिया गया है। कुछ ट्रेनें रद्द भी हुई हैं। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक दुर्घटनाग्रस्त हुए डिब्बों को हटाने का काम जारी है। उम्मीद है कि आज आधी रात के बाद दिल्ली हावड़ा रूट पर यातायात फिर से बहाल कर दिया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक ट्रेन के गार्ड के भी घायल होने की खबर है। लेकिन इसकी पुष्टि अभी रेलवे के किसी अधिकारी ने नहीं की है। चौधरी और जिले के सीएमओ अभी भी मौके पर मौजूद हैं। किसी भी संभव घायल व्यक्ति की तलाश की जा रही है।

शताब्दी रद्द, कई ट्रेनोंं का रूट बदला

कानपुर-टुंडला रेलमार्ग पर बुधवार (28 दिसंबर) सुबह सियालदह-अजमेर एक्सप्रेस ट्रेन (12987) के 15 डिब्बे पटरी से उतरने के कारण करीब दो दर्जन एक्सप्रेस और यात्री ट्रेनों का मार्ग परिवर्तित किया गया है जबकि कुछ ट्रेनें रद्द कर दी गयी हैं। हादसे में करीब 52 लोग घायल हुए हैं। रेलवे की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, हादसे के कारण अप और डाउन दोनों रास्ते अवरुद्ध हो गए हैं। बुलेटिन के अनुसार, कानपुर सेन्ट्रल-नयी दिल्ली शताब्दी 12033, 12034 (अप डाउन) दोनों ही रद्द कर दी गयी हैं। उसके अनुसार, कानपुर 22824 नयी दिल्ली – भुवनेश्वर राजधानी का मार्ग परिवर्तित कर दिया गया। इसके अलावा नई दिल्ली – लखनऊ शताब्दी 12004 का भी रास्ता बदल दिया गया है।

सूत्रों के अनुसार, वहीं 12313 अप सियालदह – नयी दिल्ली राजधानी और 12301 अप हावड़ा – नयी दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का भी मार्ग परिवर्तित कर दिया गया है। रेलवे ने तीन अन्य ट्रेनें भी रद्द की हैं। रेलवे की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, करीब 20 ट्रेनों के मार्ग परिवर्तित किए गए हैं, जबकि कानपुर तक आने वाली कुछ ट्रेनों को रास्ते में ही रोक दिया गया है। इस रेल मार्ग पर पिछले करीब पांच सप्ताह में यह दूसरी रेल दुर्घटना है। पिछला हादसा 20 नवंबर को पुखरायां में हुआ था, जिसमें 150 से ज्यादा लोग मारे गए थे और करीब 200 लोग घायल हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App