ताज़ा खबर
 

कानपुर: कोल्ड स्टोरेज में धमाके से पां लोगों की मौत, मलबे में दबे लोगों को निकालने के लिए बचाव कार्य जारी

उत्तर प्रदेश के शहर कानपुर के एक कोल्ड स्टोरेज में धमाका होने से पांच लोगों की जान चली गई वहीं आठ लोग इस धमाके में घायल हो गए।

Author कानपुर | Updated: March 15, 2017 11:17 PM
Kanpur gas leak, Kanpur explosion, kanpur gas explosion, kanpur cold storage, cold storage explosion, India newsधमाके के बाद मलबे में दबे लोगों को बचाने के लिए बचाव कार्य किया जा रहा है।

कानपुर ग्रामीण के शिवराजपुर में एक कोल्ड स्टोरेज में अमोनिया गैस रिसाव के बाद तेज धमाका हुआ जिससे पांच मजदूरों की मौत हो गयी तथा कम से कम आठ लोग घायल हो गये जिसमें एक मजदूर की हालत गंभीर है। मुख्य चिकित्साधिकारी सीएमओ डा रामायण प्रसाद के मुताबिक शाम चार बजे से शाम छह बजे के बीच कोल्ड स्टोरेज के मलबे से पांच मजदूरों को निकाला गया है और इन सभी को मेडिकल कालेज ले जाया गया जहां डाक्टरों ने इन की जांच की तो वह मृृत पाया।  वहीं कानपुर के डीएम कौशल राज शर्मा ने कोल्ड स्टोरेज के लाइसेंस की जांच के आदेश दिये है। कोल्ड स्टोरेज के आसपास के इलाको में अमोनिया गैस इस बुरी तरह से फैली है कि प्रशासन ने राहत एवं बचाव कार्य में लगे लोगों के पहनने के लिये भारी संख्या में मास्क मंगाये।  एडीएम सिटी केपी सिंह ने बताया कि शहर से करीब 40 किलोमीटर दूर ग्रामीण क्षेत्र शिवराजपुर के कटियार कोल्ड स्टोरेज में आज दोपहर करीब साढ़े बारह बजे गैस का रिसाव शुरू हो गया। उसके बाद कोल्ड स्टोरेज में तेज धमाका हुआ और उसके बाद कोल्ड स्टोरेज की छत गिर गयी। उस समय कोल्ड स्टोरेज में करीब दो दर्जन से अधिक मजदूर दोपहर का खाना खा रहे रहे थे।  धमाके के साथ कोल्ड स्टोरेज की छत इतनी तेज आवाज में गिरी कि सड़क के दूसरी तरफ कानपुर रेलवे पटरी पर खड़ी एक पैसेंजर ट्रेन के यात्री ट्रेन में धमाका समझकर ट्रेन से नीचे उतर गये। धमाका होते ही आसपास इतनी तेजी से गैस फैली कि लोगों में अफरातफरी मच गयी और लोग बाहर निकल आये।

आसपास के अन्य कोल्ड स्टोरेज में काम करने वाले लोग भी निकल आये और अफरातफरी का आलम हो गया। बाद में फायर ब्रिगेड की गाड़ियों ने पानी डालकर गैस के प्रभाव को कम किया। मलबे को हटाने के लिये चार जेसीबी मशीने लगी हुई है और लखनउच्च् से एनडीआरएफ की टीम को भी मौके पर पहुंच गयी है और सेना और पुलिस की टीमें कर मलबा हटाने में मदद कर रही है।  प्रसाद ने बताया कि अभी मलबे में से और अधिक मजदूरों के दबे होने की संभावना से इंकार नही किया जा सकता। इस कोल्ड स्टोरेज में से आठ घायल लोगों को निकाल कर मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है जिसमें से एक के हाथ में फ्रैक्चर है तथा शेष को मामूली चोटे आयी है। मेडिकल कालेज की आपातकालीन वार्ड के डाक्टरों को सतर्क रहने को कहा है। घटनास्थल पर छह एंबुलेंस डाक्टरों की टीम के साथ तैनात है।  उन्होंने बताया कि करीब 11 मजदूर मलबे से सुरक्षित निकल आये है जिन्हें मामूली खरोंचे आई है। डीएम कौशल राज शर्मा के मुताबिक इस कोल्ड स्टोरेज के बारे में मालूम हुआ है कि यह एक साल पहले ही बना है। इस कोल्ड स्टोरेज के लाइसेंस की जांच करने के आदेश दे दिये गये है तथा अधिकारियों को यह भी कहा गया है कि वह इस बात की भी जांच करें कि यहां सुरक्षा मानको का प्रयोग हो रहा था या नही। मलबे में अभी और कुछ मजदूरों के दबे होने की आशंका है इसलिये बहुत ही सुरक्षित तरीके से मलबा हटाने का काम किया जा रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सैफुल्लाह की मौत पर उलेमा काउंसिल ने उठाया सवाल, कहा- ‘इस एनकाउंटर में शामिल पुलिस वालों की वर्दी सहित खाल खिंचवा लूंगा’
2 एटीएस ने किया लखनऊ एकाउंटर के वर्कआउट का दावा, मास्‍टरमाइंड गौस मोहम्‍मद गिरफ्तार
3 वीडियो: बाइक से उतरने को किया इंकार तो मालिक समेत मोटरसाइकिल उठा ले गई ट्रैफिक पुलिस
ये पढ़ा क्या?
X