ताज़ा खबर
 

यूपी: मेडिकल कॉलेज का एसी प्लांट खराब, आईसीयू में 5 मरीजों की मौत

अस्पताल सूत्रों के अनुसार, एसी में पिछले कई दिनों से खराबी देखने को मिल रही थी। जिसके बाद उसे ठीक कर दिया जाता था लेकिन गुरुवार सुबह आईसीयू के सारे एसी बंद हो गए। ओवर हीटिंग के कारण सभी उपकरणों ने काम करना बंद कर दिया। समय से मेन्टेनेंस नहीं होने के कारण एसी में खराबी आई।

अस्पताल के ICU में बेहाल मरीज।

उत्तर प्रदेश के कानपुर के हैलट अस्पताल में गुरुवार देर रात इंटेसिव केयर यूनिट (आईसीयू) का एसी सिस्टम फेल होने से पांच मरीजों की मौत हो गई। हालांकि, अस्पताल प्रशासन इस बात से इनकार कर रहा है कि एसी फेल होने से मरीजों की मौत हुई है। अस्पताल के मुताबिक, यह मौतें पिछले 24 घंटों के दौरान हुई हैं। अस्पताल सूत्रों के अनुसार, एसी में पिछले कई दिनों से खराबी देखने को मिल रही थी। जिसके बाद उसे ठीक कर दिया जाता था लेकिन गुरुवार सुबह आईसीयू के सारे एसी बंद हो गए। ओवर हीटिंग के कारण सभी उपकरणों ने काम करना बंद कर दिया।  समय से मेन्टेनेंस नहीं होने के कारण एसी में खराबी आई। आईसीयू प्रभारी डॉ. सौरभ अग्रवाल का कहना है कि बीते 24 घंटे में पांच मरीजों की मौत हुई है, मगर एसी फेल होने से नहीं। तीन मरीजों की मौत हार्ट अटैक से हुई जबकि दो मरीज काफी गंभीर थे। उन्हें देर रात न्यूरोसर्जरी आईसीयू में शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही थी। हालांकि समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मरने वाले मरीजों की संख्या 4 है।

बता दें कि हैलट अस्पताल गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज (जीएसवीएम) के तहत आता है। माना जा रहा है कि समय पर एसी प्लांट की रख-रखाव ना होने की वजह से ही एसी प्लांट अचानक फेल हो गया है। इस बीच प्रचंड गर्मी में तिमारदार हाथ में पंखा लेकर मरीजों पर हवा करते रहे, जबकि गंभीर रूप से घायल मरीज तड़पते रहे। इस बीच अपर जिलाधिकारी सतीश पाल का कहना है कि जैसे ही ये मामला डीएम के संज्ञान में आए, उन्होंने तत्काल दो एसी की व्यवस्था कराई। इस संबंध में चिकित्सकों से बात भी की गई। प्रथम दृष्टया कोई और वजह सामने नहीं आई है। वहीं कानपुर के डीएम सुरेंद्र सिंह ने बताया कि आज अस्पताल में हालात सामान्य हो गये हैं और वेंटीलेटर समेत दूसरी मशीनें काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि मामले की जांच के लिए 4 सदस्यों की एक कमेटी गठित कर दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App