ताज़ा खबर
 

यूपी: डिप्टी सीएम ने दलित के यहां खाया खाना, पूछा- किसी अफसर ने पैसा खाया हो तो बताओ

डिप्टी सीएम ने प्रधानमंत्री आवास की सूची हाथ में लेकर एक-एक लाभार्थी से बातचीत करना शुरू कर दिया। इसी दौरान मौजूद एक लाभार्थी से उप मुख्यमंत्री ने पूछा कि आवास लेने में कितने पैसे लगे। सभी ने जवाब दिया साहब एक पैसा भी नहीं।

Author May 4, 2018 12:22 PM
कानपुर के छांजा गांव में गुरुवार रात डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने खाना खाया (फोटो-अवनीश कुमार)

उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने गुरुवार (3 मई) को दिन भर के बिजी शेड्यूल के बाद रात कानपुर के पतारा विकास खंड के गांव छांजा में बिताई।  डिप्टी सीएम पूरे दल-बल के साथ वहां पहुंचे। इस दौरान डिप्टी सीएम ने ग्रामीणों से सीधा संवाद किया और पूछा कि अगर कोई अधिकारी रिश्वत मांगता है तो अभी बताइए। ग्रामीणों ने ना में इसका जवाब दिया। इसके बाद डिप्टी सीएम बीजेपी नेताओं और अधिकारियों के साथ छुन्नी देवी नाम की दलित महिला के घर कार्यकर्ताओं के साथ भोजन करने पहुंचे। यहां छुन्नी देवी ने दिल खोलकर उनका स्वागत किया। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य जैसे ही छुन्नी देवी के घर पर पहुंचे तो कई घंटों से गेट पर इंतजार कर रही छुन्नी देवी ने मीठा खिलाकर उनका स्वागत किया। इसके बाद बारी आई रात्रि भोजन की। आंगन में मेहमान बिठाये गये। बीजेपी नेताओं को छुन्नी देवी ने पत्तल में दाल, रोटी, कढ़ी, भरवां करेला, मिक्स सब्जी, रायता, सलाद के साथ खीर परोसी।

डिप्टी सीएम का स्वागत करतीं छुन्नी देवी। फोटो-अवनीश कुमार

बीजेपी के मेहमान छुन्नी देवी के आवभगत से प्रभावित हुए। उन्होंने खाने की तारीफ की। इसके बाद डिप्टी गांव में ही बने प्राथमिक पाठशाला में जाकर रात्रि विश्राम के लिए चले गए। यहां पर ही रात्रि चौपाल लगाई गई थी। डिप्टी सीएम ने यहां लोगों की समस्याएं सुनी और उनसे खुलकार मुलाकात की। डिप्टी सीएम ने कहा, “पिछली सरकारें गरीबी हटाओ का नारा देकर योजनाएं बनाती थी लेकिन वह असल लाभुकों तक नही पहुंच पाती थी।” उन्होंने ग्रामीणों से पूछा कि क्या इससे पहले भी किसी सरकार ने आपके गांव में आकर योजनाओं की जानकारी ली है। क्या आप के दुख दर्द को साझा किया है, क्या कभी आपके बीच बैठकर आपकी समस्याओं को जानने की कोशिश की है।

छुन्नी देवी ने अपने परिवार के साथ मेहमानों के लिए बड़े प्यार से खाना पकाया। फोटो-अवनीश कुमार

केशव प्रसाद मौर्य ने आगे कहा, “मोदी और योगी सरकार ने जो योजनाएं शुरू की हैं उसमें किसी अधिकारी ने पैसा खाया हो तो बेखौफ होकर बताओ, मैं वादा करता हूं कि मेरे यहां से जाने के बाद ना तो कोई दारोगा पीटेगा और न एसडीएम परेशान करेंगे।” डिप्टी सीएम ने प्रधानमंत्री आवास की सूची हाथ में लेकर एक-एक लाभार्थी से बातचीत करना शुरू कर दिया। इसी दौरान मौजूद एक लाभार्थी से उप मुख्यमंत्री ने पूछा कि आवास लेने में कितने पैसे लगे। सभी ने जवाब दिया साहब एक पैसा भी नहीं। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य एक-एक कर ग्राम स्वराज योजना, उज्ज्वला रसोई गैस योजना, सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री जनधन योजना, प्रधानमंत्री बीमा योजना की जानकारी ली।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App