ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी की तुलना नॉर्थ कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन से की, 23 पर केस

मोदी की किम से तुलना वाले बैनर और होर्दिंग्स पूरे कानपुर शहर में लगाए गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फोटो-पीटीआई)

उत्तर प्रदेश में कानपुर पुलिस ने 23 व्यापारियों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन से करने के आरोप में केस दर्ज किया है। मोदी की किम से तुलना वाले बैनर और होर्दिंग्स पूरे कानपुर शहर में लगाए गए हैं। बैंक द्वारा 10 के सिक्के जमा न करने के आरोप में व्यापारियों ने अपना विरोध जताने के लिए इन पोस्टर को 12 अक्टूबर को लगाया था। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार इन होर्दिंग्स में एक साइड तानाशाह किम की फोटो लगी है जिसके कैप्शन में लिखा है “मैं दुनिया को मिटा कर दम लूंगा”। दूसरी साइड पीएम मोदी की फोटो लगाई गई है जिसके कैप्शन में लिखा है “मैं व्यापार को मिटा कर दम लूंगा।”

इस घटना के सामने आने के बाद पुलिस ने आईपीसी की विभिन्न धाराओं और यूपी स्पेशल पावर एक्ट के तहत व्यापारियों पर केस दर्ज किया। पुलिस ने इस मामले में एक गिरफ्तारी भी की है और उच्च अधिकारियों का कहना है जल्द ही अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम प्रवीण कुमार है जो कि शारदा नगर का रहने वाला है। सुप्रींटेंडेंट ऑफ पुलिस अशोक वर्मा ने इस गिरफ्तारी की पुष्टि की। प्रवीण कुमार को नरेंद्र मोदी की तुलना किम से करने वाले होर्दिंग्स लगाते हुए गिरफ्तार किया गया था।

HOT DEALS
  • Lenovo Phab 2 Plus 32GB Champagne Gold
    ₹ 17999 MRP ₹ 17999 -0%
    ₹0 Cashback
  • Micromax Bharat 2 Q402 4GB Champagne
    ₹ 2998 MRP ₹ 3999 -25%
    ₹300 Cashback

वहीं पुलिस द्वारा व्यापारियों पर कार्यवाही किए जाने का विरोध अन्य व्यापारी कर रहे हैं। उनका कहना है कि व्यापारियों पर दर्ज किए गए केस के विरोध में वे इस साल दीवाली नहीं मनाएंगे। सूत्रों के मुताबिक बैंक और दुकानदार 10 रुपए के सिक्के नहीं ले रहे हैं, जिसके कारण व्यापारियों को मजबूरन अपने कर्मचारियों को सिक्कों में सैलरी देनी पड़ रही हैं। व्यापारियों का आरोप है कि बजाए पूरी राशि देने के बैंक सिक्कों का 25 प्रतिशत काटकर उन्हें नोट देने की बात कर रहा है। व्यापारियों को कहना है कि बैंक अधिकारियों और सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से भी इस गंभीर विषय पर चर्चा की गई थी लेकिन जब कहीं से कोई समाधान नहीं निकला तो हमें मजबूरी में राज्य सरकार और केंद्र सरकार का ध्यान इस समस्या पर केंद्रित करने के लिए इस प्रकार के पोस्टर और होर्दिंग्स लगाने पड़े।

 

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App