ताज़ा खबर
 

Ayodhya Verdict: अयोध्या मामले पर फैसले के मद्देनजर यूपी के शिक्षण संस्थान बंद रखने के निर्देश

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case Verdict Today: वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्चतम न्यायालय द्वारा अयोध्या प्रकरण के सम्बन्ध में दिए जाने वाले सम्भावित फैसले के दृष्टिगत प्रदेशवासियों से अपील की है कि आने वाले फैसले को जीत-हार के साथ जोड़कर न देखा जाए।

Author Updated: November 9, 2019 1:23 AM
उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो- ANI)

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case Verdict: अयोध्या मामले में शनिवार यानी आज उच्चतम न्यायालय द्वारा फैसला सुनाए जाने के मद्देनजर योगी सरकार ने एहतियात के दौर पर राज्य भर के स्कूल, कॉलेज सहित सभी शिक्षण संस्थान बंद रखने का फैसला लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में 9 से 11 नवंबर तक स्कूल और कॉलेजों में छुट्टी का ऐलान कर दिया गया है। इस संबंध में प्रदेश के जिलाधिकारियों ने निर्देश जारी कर दिए हैं।

वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्चतम न्यायालय द्वारा अयोध्या प्रकरण के सम्बन्ध में दिए जाने वाले सम्भावित फैसले के दृष्टिगत प्रदेशवासियों से अपील की है कि आने वाले फैसले को जीत-हार के साथ जोड़कर न देखा जाए।

उन्होंने कहा कि, यह हम सभी की जिम्मेदारी है कि प्रदेश में शान्तिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण वातावरण को हर हाल में बनाए रखें। अफवाहों पर कतई ध्यान न दें। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासन सभी की सुरक्षा व प्रदेश में कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए कटिबद्ध है। कोई भी व्यक्ति यदि कानून व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश करेगा, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।

नोएडा और गाजियाबाद जिलों के जिलाधिकारियों की ओर से जारी आदेश के अनुसार, जनपद गौतम बुध नगर और गाजियाबाद के सभी स्कूलों, उच्च शैक्षणिक संस्थानों, ट्रेंिनग सेंटर 9 से 11 नवंबर तक बंद रहेंगे। जिलाधिकारी गौतम बुध नगर बृजेश नारायण सिंह ने बताया कि न्यायालय कल अयोध्या मामले में फैसला सुनाने वाला है। फैसले के बाद कानून व्यवस्था व आपसी सौहार्द प्रभावित ना हो, इसके लिए जिला प्रशासन हर संभव तैयारी कर रहा है।

उन्होंने बताया कि इसके तहत 9 नवंबर से 11 नवंबर तक जनपद के सभी स्कूलों, विश्वविद्यालयों, इंजीनियंरिंग कॉलेजों, उच्च शैक्षणिक संस्थानों, ट्रेंिनग सेंटरों को बंद रखने का आदेश दिया गया है। उन्होंने जनपद के सभी लोगों से अपील की है कि न्यायालय का जो भी निर्णय आए उसे स्वीकार करें, तथा आपसी भाईचारे व सौहार्द को बनाए रखने में प्रशासन की मदद करें।

जिलाधिकारी ने सोशल मीडिया पर गलत संदेश प्रसारित करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया है। उन्होंने बताया कि अगर सोशल मीडिया पर कोई ऐसा पोस्ट डालता है, जिससे कानून व्यवस्था प्रभावित हो सकती है, तो उसके खिलाफ गैंगेस्टर व रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories