ताज़ा खबर
 

हिन्‍दू और मुस्लिम पत्नियों ने पेश की मिसाल, एक-दूसरे के पति को दिया जिंदगी का तोहफा

अस्पताल ने अपने प्रयास से न केवल हिंदू और मुस्लिम परिवारों के बीच जन्म-जन्म का बंधन बनाया बल्कि दो लोगों की जान भी बचाई।

Author Published on: May 22, 2017 9:30 PM
किडनी के बारे में जानकारी देती स्वयंसेवी संस्थाएं (Photo source-Indian express)

मानवता किसी सीमा के बंधन में नहीं बंधती, इस बात का एक बार फिर प्रमाण मिला है। दो हिंदू और मुस्लिम महिलाओं ने एक-दूसरे के पतियों को अपनी किडनियां दान देकर नई जिंदगी दी है। ग्रेटर नोएडा के रहने वाले इकराम (29) और बागपत के रहने वाले राहुल वरिष्ठ (36), दोनों को किडनी की जरूरत थी। दोनों परिवारों को किडनी देने वाला नहीं मिल रहा था। दोनों की जान खतरे में थी। दोनों पुरुषों की पत्नियों का ब्लड ग्रुप अपने पति से मिल नहीं रहा था, जिस वजह से वह किडनी नहीं दे सकती थीं। ऐसे में संकट और गहरा गया था।

इकराम की पत्नी रजिया (24) का ब्लड ग्रुप बी-पॉजीटिव था तो इकराम का ए-पॉजीटिव। राहुल की पत्नी पवित्रा (38) का ब्लड ग्रुप ए-पॉजीटिव था लेकिन राहुल का बी-पॉजीटिव।जेपी अस्पताल के वरिष्ठ किडनी प्रत्यारोपण सर्जन डॉक्टर अमित देवड़ा ने एक बयान में कहा, “हमने दोनों परिवारों की अलग से बैठक बुलवाई जिसमें हमने उनसे कहा कि अगर महिलाएं अपनी किडनी दूसरे के पति को दे देती हैं तो दोनों की जान बच सकती है।” इस बात को दोनों महिलाओं ने माना और अपनी किडनी दूसरे के पति को देने को राजी हो गईं। पांच घंटे तक चली किडनी प्रत्यारोपण की प्रक्रिया में यह काम सफलतापूर्वक हुआ।

अस्पताल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉक्टर मनोज लूथरा ने कहा, “हिंदू-मुस्लिम परिवारों के बीच सफलतापूर्वक किडनी दान बताता है कि मानवीय खून किसी सीमा में नहीं बंधा है। सिर्फ इंसानी दिमाग में धार्मिक आग्रह-पूर्वाग्रह बैठे रहते हैं। अगर इंसानियत इस आग्रह-पूर्वाग्रह पर विजय पा ले तो खासकर चिकित्सकीय आपातकाल की स्थिति में कई जानों को बचाया जा सकता है।” जेपी अस्पताल के चिकित्सकों ने कहा कि दोनों मरीज अब अच्छी स्थिति में हैं। उन्होंने कहा कि अस्पताल ने स्वास्थ्य सेवा का धर्म निभाने के साथ-साथ सामाजिक भाईचारे को मजबूत करने की दिशा में कमाल का काम कर दिखाया है। अस्पताल ने अपने प्रयास से न केवल हिंदू और मुस्लिम परिवारों के बीच जन्म-जन्म का बंधन बनाया बल्कि दो लोगों की जान भी बचाई।

नोएडा की कंपनी ने 7 लाख लोगों से की 3700 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी; 3 लोग गिरफ्तार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 यूपी में मुसलमानों के लिए सरकारी योजनाओं में नहीं खत्म होगा आरक्षण, मंत्री रमापति शास्त्री ने मीडिया रिपोर्ट्स को बताया गलत
2 सहारनपुर में दलित-ठाकुर संघर्ष से मायावती को सियासी लाभ, वोट बैंक मजबूत करने मंगलवार को जाएंगी शब्बीरपुर
3 कांग्रेस नेता हत्याकांड का खुलासा, यूपी एसटीएफ के हत्थे चढ़े दो शूटर
जस्‍ट नाउ
X