ताज़ा खबर
 

हाथरस केस: एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर समेत कई अफसरों को सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया सस्पेंड

दोनों पक्षों (पीड़ित और आरोपी) और मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारियों का नार्को टेस्ट करवाया जाएगा। इससे पहले हाथरस गैंगरेप की घटना को लेकर हो रही आलोचनाओं के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बयान दिया था।

Hathras case, Hathras Rape case, rape in Hathras, CM yogi, CM yogi aaditynath, UP CMमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के आधार हाथरस केस में पुलिस के कई अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है।

हाथरस मामले में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के आधार पर उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री द्वारा पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर, तत्कालीन क्षेत्राधिकारी राम शब्द, तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक दिनेश कुमार वर्मा, वरिष्ठ उप निरीक्षक जगवीर सिंह व हेड मोहर्रिर महेश पाल को निलंबित करने के निर्देश दिए गए हैं।  साथ ही दोनों पक्षों (पीड़ित और आरोपी) और मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारियों का नार्को टेस्ट करवाया जाएगा। इससे पहले हाथरस गैंगरेप की घटना को लेकर हो रही आलोचनाओं के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बयान दिया। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान-स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार मात्र रखने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है। उन्होंने कहा, ”इन्हें ऐसा दंड मिलेगा जो भविष्य में उदाहरण प्रस्तुत करेगा। आपकी उत्तर प्रदेश सरकार प्रत्येक माता-बहन की सुरक्षा व विकास हेतु संकल्पबद्ध है. यह हमारा संकल्प है-वचन है।”

धारा 144 लागू होने के बावजूद भी गांव में पंचायत हुई लोगों ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की। इतना ही नहीं खबरों के मुताबिक चार अक्टूबर को इस मामले को लेकर विधायक राजवीर सिंह पहलवान के घर बैठक की भी बात कही जा रही है। 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव की रहने वाली 19 वर्षीय दलित लड़की से कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया था। लड़की को रीढ़ की हड्डी में चोट और जीभ कटने की वजह से पहले अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था।

उसके बाद उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां मंगलवार तड़के उसकी मौत हो गई थी। इसके बाद प्रशासन ने जबरन रात में लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया। गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने भी पीड़िता के परिजनों से मिलने जाने की कोशिश की तो पुलिस ने उन्हें बीच रास्ते में ही रोक लिया। कांग्रेस के अलावा समाजवादी पार्टी और टीएमसी के नेता भी पीड़िता के परिजनों से मिलने की कोशिश कर चुके हैं। हालांकि पुलिस द्वारा सभी को बीच में रोक दिया गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 योगी के कपड़े पहन इतना बड़ा झूठ! आदित्य नाथ को कांग्रेस की अर्चना डालमिया का जवाब
आज का राशिफल
X