ताज़ा खबर
 

हापुड़ मॉब लिंचिंग: FIR में लिखा- गोहत्या नहीं घटना की वजह, नए वीडियो में नजर आई दूसरी सच्चाई

19 जून को इंडियन एक्सप्रेस ने रिपोर्ट की थी कि घटनास्थल से पुलिस को कोई बाइक नहीं मिली। पीड़ित परिवारों और गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों के मुताबिक भी हत्या गाय से जुड़े मामले की वजह से की गई।

Author June 24, 2018 3:37 PM
गोहत्या के शक में भीड़ द्वारा मारे गए कासिम का परिवार। (फोटो सोर्स पुलकित राठी)

हापुड़ कांड से जुड़ा एक और वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। वीडियो में एक बुजुर्ग शख्स के साथ मारपीट की जा रही है। उनके हाथ में बुरी तरह चोट लगने की वजह से खून बह रहा है। कुर्ते पर खून के धब्बे हैं। दो लोगों ने सफेद दाड़ी वाले बुजुर्ग को पकड़ रखा है। अपनी पहचान समीउद्दीन के रूप में बताने वाले बुजुर्ग से लोग पूछ रहे हैं कि क्या वह गोहत्या में शामिल थे? इसका जवाब वह ‘ना’ में देते हैं। तब एक अन्य शख्स सच नहीं बोलने पर उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी देता है। इस बार भी समीउद्दीन कहते हैं, ‘हम उन्हें काट नहीं रहे थे।’ फिर एक शख्स उनकी दाड़ी पकड़ता है और बुरी तरह खींचता है। पूरे चेहरे पर थप्पड़ मारता है, पेट पर मारता है।

18 जून को यूपी के हापुड़ में मवेशी व्यापारी कासिम और समीद्दीन से भीड़ ने बुरी तरह मारपीट की थी। इसमें कासिम को मौत हो गई। इसी घटना से घटना से जुड़ा दूसरा अब वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। करीब एक मिनट लंबा यह वीडियो शनिवार के दिन सोशल मीडिया में वायरल हुआ। हालांकि घटना में पुलिस की राय वीडियो के बिल्कुल इतर है। हापुड़ पुलिस का कहना है कि हत्या गाय या मवेशी से जुड़ी नहीं है। पुलिस का अभी तक कहना है कि मामला रोडरेज का है।

वीडियो के सवाल पर हापुड़ के एसपी संकल्प शर्मा ने बताया, ‘वीडियो की सत्यता जांचने की कोशिश की जा रही है। जांच होने के बाद इसे जांच का हिस्सा बनाया जाएगा।’ उन्होंने कहा कि एफआईआर पीड़ित के छोटे भाई यासीन की शिकायत के आधार पर ही दर्ज की गई है। वहीं वीडियो वायरल होने के बाद पीड़ित के परिजनों का कहना है कि एफआईआर उनकी शिकायत के मुताबिक दर्ज नहीं की गई। एफआईआर के मुताबिक, ‘कासिम और समीउद्दीन मोटरसाइकिल से जा रहे थे और उनकी एक बाइक से टक्कर हो गई। इसके बाद दो पक्षों के बीच बहस हुई और युवक अपने गांव से 20-25 लोगों को बुला लाया।’

19 जून को इंडियन एक्सप्रेस ने रिपोर्ट की थी कि घटनास्थल से पुलिस को कोई बाइक नहीं मिली। पीड़ित परिवारों और गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों के मुताबिक भी हत्या गाय से जुड़े मामले की वजह से की गई। रिपोर्ट में यह भी लिखा गया है कि हत्या के बाद स्थानीय शख्स सुधीर राणा से पुलिस ने एक दिन के लिए दो गाय और एक बछड़े को आसरा देने के लिए कहा था।

पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App