scorecardresearch

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट: एजाज मोहम्‍मद से पूछा- फव्‍वारा कब से बंद है? बोले- काफी समय से फिर कहा- 20 साल, फिर- 12 साल, गुंबदों के नीचे क्‍या है, ये रहस्‍य भी खुला, जानें

ज्ञानवापी मस्जिद की सर्वे रिपोर्ट कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह ने दाखिल कर दी है। न्यूज चैनल इंडिया टीवी ने रिपोर्ट के आधार पर बताया कि मस्जिद में त्रिशूल, डमरू और नाग की आकृति मिली हैं।

gyanvapi masjid|gyanvapi case|gyanvapi survey
वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद (Photo Source- PTI)

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के बाद अब रिपोर्ट भी पेश की जा चुकी है। अब सबकी नजरें इस बात पर टिकी हैं कि रिपोर्ट में क्या है। शिवलिंग के दावे और तीन गुंबदों को लेकर कई चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं। वहीं, 14, 15 और 16 मई को हुए सर्वे की कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह की रिपोर्ट में कहा गया कि फव्वारे के सवाल पर मस्जिद कमिटी के मुंशी एजाज मोहम्‍मद ने गोल मोल जवाब दिया। पहले कहा गया कि फव्वारा 20 साल से बंद है, फिर 12 साल से बंद बताया। वहीं, जब हिंदू पक्ष ने फव्वारा चालू करने के लिए कहा तो मुंशी ने फव्वारा चालू करने पर असमर्थता जताई।

टीवी चैनल इंडिया टीवी ने सर्वे रिपोर्ट के आधार पर शिवलिंग और मस्जिद के तीन गुंबदों के बारे में ऐसी जानकारियां दी हैं, जो हैरान करने वाली हैं। चैनल ने रिपोर्ट के हवाले से कहा कि जिस आकृति को लेकर हिंदू और मुस्लिम पक्ष के बीच शिवलिंग और फव्वारे का दावा किया जा रहा है, उसमें पानी के लिए पाइप घुसाने के लिए कोई जगह नहीं मिली है। बता दें कि मस्जिद के वजूखाने में सर्वे के दौरान काले पत्थर की एक आकृति मिली थी, जिसे लेकर हिंदू पक्ष ने शिवलिंग होने का दावा किया था, जबकि मुस्लिम पक्ष इसे फव्वारा बता रहा था।

अब जो रिपोर्ट सामने आई है उसके मुताबिक, इस आकृति में पाईप को घुसाने के लिए कोई छेद नहीं किया गया है। सिर्फ एक छेद आकृति के ऊपर रखे सफेद पत्थर में है। इंडिया टीवी ने बताया कि काले पत्थर की आकृति के ऊपर रखे सफेद पत्थर में सिर्फ एक छेद है, जिसकी गहराई 63 सेमी और चौड़ाई आधा इंच है। इसके अलावा, आकृति पर कोई और छेद नहीं मिला है, जिससे कि पानी बाहर निकाला जा सके।

इसके साथ ही, मस्जिद के तीन मुख्य गुंबदों को लेकर भी हैरान करने वाली बात सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, एक गंबुद में शंकुकार शिखर की आकृति मिली है, जिसकी ऊंचाई ढाई फीट और व्यास 18 फीट है। बताया गया कि शंकुकार शिखर के ऊपर ही मस्जिद वाला गुंबद टिका हुआ है। इसके अलावा, दूसरे गंबुद के नीचे भी फूल, पत्ती और कमल की कलाकृतियां मौजूद हैं। इसके अलावा, रिपोर्ट मे कहा गया कि मस्जिद में त्रिशूल के खुदे हुए चिन्ह मिले हैं और डमरू, नाग का भी जिक्र किया गया है।

गौरतलब है कि ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार (20 मई, 2022) को सुनवाई होनी है। वाराणसी की अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद कमिटी ने कोर्ट में याचिका दायर की थी। सर्वोच्च न्यायालय ने सुनवाई से पहले सिविल कोर्ट को इस मामले में कोई भी फैसला न देने के निर्देश दिए हैं।

पढें उत्तर प्रदेश (Uttarpradesh News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.