ताज़ा खबर
 

गोरखपुर: पिछले 24 घंटे में बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 10 और बच्चो की मौत

मेडिकल कालेज में इस साल मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 1351 हो गई है।
Author September 5, 2017 20:23 pm
गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कलेज में अगस्त के दूसरे हफ्ते में छह दिनों में 63 लोगों की मौत हो गई थी। (PTI)

गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में पिछले 24 घंटो में 10 और बच्चों की बच्चों की मौत हो गई है।  मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. पी के सिंह ने बताया कि पीडियाट्रिक वार्ड के एनआईसीयू में 17 बच्चे तथा पीआईसीयू (जनरल पीडिया वार्ड ) में 32 बच्चे भर्ती किये गये थे। इस अवधि तक एनआईसीयू में कुल 118 एवं पीआईसीयू में 214 बच्चे भर्ती हैं। कुल भर्ती 332 बच्चों में से 10 बच्चों की मौत हो गई है। इसमें से एक बच्चा इंसेफ्लाइटिस का शामिल है तथा अन्य बच्चे दूसरी बीमारियों से पीड़ित थे।

डॉ. पी के सिंह ने बताया कि जेई एवं एईएस के नये 13 मरीज इलाज के लिए मेडिकल कालेज में भर्ती किये गये थे। कुल मृत 10 बच्चों में से एक बच्चे की मौत एईएस से हुई है।  मेडिकल कालेज के प्राचार्य सिंह ने बताया कि अलग-अलग वार्डों में तीन सितंबर को नौ बच्चों की मौत हुई जबकि चार सितंबर को 15 अन्य बच्चों की मौत हो गई थी।

उन्होंने बताया कि इसके साथ ही मेडिकल कालेज में इस साल मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 1351 हो गई है। बीआरडी मेडिकल कालेज में सुविधाओं को सुधारने के लिए हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं।  उन्होंने बताया कि सरकार ने 24 नये ”वार्मर” मुहैया कराये हैं जो नवजात शिशुओं के लिए उपयोग में आते हैं। ये नये वार्मर लगा दिये गये हैं। बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने के मकसद से मेडिकल कालेज में नये डॉक्टर भी आए हैं। उन्होंने बताया कि इनमें दस जूनियर रेजीडेंट, सात मेडिकल अफसर और एक प्रोफेसर शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Sep 6, 2017 at 8:20 am
    गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में 500 मासूम बच्चों की दर्दनाक मौत हो चुकी है पिछले एक महीने में ! अभी भी ये सिलसिला थमा नहीं है ! उत्तरप्रदेश सरकार तो तीर्थयात्रा , गोरखनाथ मंदिर की आरती , जन्माष्टमी , अर्धकुम्भ की तैयारी , इत्यादि धार्मिक कार्यों में व्यस्त है ! कुछ समय बचता भी है तो मुसलमानों को प्रताड़ित करने में निकल जाता है, ऐसे में मरते हुए मासूम बच्चों पर ध्यान देने की फुर्सत ही कहाँ मिलती है प्रशासन को ? उम्मीद की एकमात्र किरण है "माननीय उच्च न्यायालय" ! जैसे हरियाणा की निकम्मी मनोहर लाल खट्टर सरकार को सख्त निर्देश दे देकर माननीय उच्च न्यायालय ने बलात्कारी बाबा राम रहीम के खिलाफ कार्रवाई करवाई ! ठीक वैसे ही क्या उत्तरप्रदेश में मासूम बच्चों की लगातार हो रही दर्दनाक मौतों को रोकने के लिए , माननीय उच्च न्यायालय उत्तरप्रदेश सरकार को भी सख्त निर्देश देने की कृपा करेगा ?
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Sep 6, 2017 at 8:05 am
      गोरखपुर के बाबा राघव दास मे ल कॉलेज का नाम बदलकर "बच्चों का सरकारी कब्रिस्तान" रख देना चाहिए !
      (0)(0)
      Reply