ताज़ा खबर
 

IRCTC : इंडियन रेलवे का सबसे तेज इंजन बनकर तैयार, इन ट्रेनों में लगेगा!

IRCTC Indian Railway: WAP 5 की खास बात यह है कि यह अभी के इंजनों की तुलना में काफी कम बिजली की खपत करेगा। एक इंजन करीब 13 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हुआ है, जिसका नया डिजाइन ट्रेनों को उच्च गति पकड़ने में मदद करेगा।

CLW के मुताबिक WAP-5 देश में बना ऐसा पहला इंजन है जो 200 किलो मीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ने में सक्षम हैं। (फाइल फोटो)

चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स (CLW) ने भारतीय रेलवे को सबसे तेज रफ्तार वाला रेल इंजन दिया है। उम्मीद है कि भारत में बना मोडिफाइड WAP 5, 200 किलो मीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकता है। आधिकारिक तौर पर अभी इंजन का कोई नाम नहीं रखा गया है। यह एक बेहतर हवा की रफ्तार पकड़ने वाला इंजन है। इसमें एर्गोनोमिक डिजाइन है, जिसे ड्राइवर के आराम और सुरक्षा का ख्याल रखते हुए बनाया गया है। इंजन के संभावित भविष्य के आधार पर इसकी पहली खेप गाजियाबाद भेजी गई है। माना जा रहा है कि इन इंजनों का इस्तेमाल राजधानी एक्सप्रेस, गतिमान एक्सप्रेस और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों के फेरे बढ़ाने के लिए किया जाए। बता दें कि रेलवे इन दिनों अपनी ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की कोशिशों में जुटा है। CLW द्वारा बनाया गया यह इंजन इस दिशा में कारगार साबित हो सकता है। हालांकि भारत में बुलेट ट्रेन परियोजना को भी पूर्व में मंजूरी दी जा चुकी है। जानकारी के मुताबिक WAP 5 में अपने आप व्यवस्थित होने वाला गियर है जो 5,400 होर्स पॉवर की ताकत पैदा करता है।

CLW के पीआर अधिकारी मंतर सिंह ने एक बयान में बताया, ‘इंजन मॉडर्न डिजाइन में बनाया गया है। इसके आगे और पीछे का आकार वायुगतिकीय के आधार पर है। इसके अलावा इंजन की पूरी तरह से संशोधित प्रणाली यह सुनिश्चित करेगी कि कोई अवांछित कंपन नहीं हो और ट्रेन 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पर भी स्थिर रहे।’ इंजन में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं और कॉकपिट में आवाज रिकॉर्डिंग की सुविधा भी है, जो ड्राइविंग टीम के बीच होने वाली बातचीत को रिकॉर्ड करेगा। ये रिकॉर्डिंग करीब 90 दिन तक सुरक्षित रहेगी, जिसका आपातकालीन स्थिति और दुर्घटना के वक्त अध्ययन किया जा सकता है। यह तकनीक उन मामलों में कारगार साबित होगी जब पता लगाना हो कि घटना के वक्त सचमुच क्या हुआ।

इसके अलावा WAP 5 की खास बात यह है कि यह अभी के इंजनों की तुलना में काफी कम बिजली की खपत करेगा। एक इंजन करीब 13 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हुआ है, जिसका नया डिजाइन ट्रेनों को उच्च गति पकड़ने में मदद करेगा। गौरतलब है कि हाल के दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली कैबिनेट ने भारतीय रेलवे के 100 फीसदी बिजली वाली ट्रेनों चलाने की महत्वकांक्षी योजना को मंजूरी दी थी। CLW ने पिछले वित्त वर्ष में 300 यात्री और 50 माल वाले इंजनों का निर्माण किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App