ताज़ा खबर
 

डीपी में नहीं लगाई पत्नी की तस्वीर तो बीवी पहुंची थाने, पति पर लगा दिया उत्पीड़न का आरोप

महिला ने अपने पति के साथ कुछ तस्वीरें खिचवाईं थी। महिला इस तस्वीर को अपने पति के व्हाट्सएपप की प्रोफाइल डीपी बनाना चाहती थी। लेकिन पति इसके लिए राजी नहीं था। इस बात को लेकर दोनों के बीच एक महीने तक तकरार चलती रही। आखिरकार महिला ने पति के खिलाफ थाने में उत्पीड़न का आरोप लगाया।

प्रतीकात्मक तस्वीर (Source-whatsappstatusmessages)

दिल्ली से सटे साहिबाबाद में स्मार्ट फोन और सोशल मीडिया पति-पत्नी के बीच टेंशन की एक नयी वजह बन गई। यहां पर एक महिला ने पति पर उत्पीड़न का आरोप लगाया। पुलिस वालों ने जब महिला से बात की तो उसकी शिकायत की वजह जानकर वे भी हैरान रह गये। इसके बाद महिला और उसके पति की काउंसिलिंग की गई। पता चला कि महिला अपने पति से महज इसलिए नाराज थी क्योंकि वह उसकी एक तस्वीर को अपने व्हाट्सएप प्रोफाइल की डीपी बनाने को तैयार नहीं था। नवभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक कुछ महीने पहले महिला ने अपने पति के साथ कुछ तस्वीरें खिचवाईं थी। महिला इस तस्वीर को अपने पति के व्हाट्सएपप की प्रोफाइल डीपी बनाना चाहती थी। लेकिन पति इसके लिए राजी नहीं था। इस बात को लेकर दोनों के बीच एक महीने तक तकरार चलती रही। महिला का पति उस खास तस्वीर को डीपी नहीं ही बनाया। इसके बाद आखिरकार महिला ने पति के खिलाफ थाने में उत्पीड़न का आरोप लगाया। हालांकि जब थाने में महिला की काउंसिलिंग की गई तो पति ने गलती मान ली, इसके बाद पत्नी ने अपनी शिकायत वापस ले ली।

गाजियाबाद पुलिस का कहना है कि थानों में सोशल मीडिया को लेकर ऐसी शिकायतें आती रहती है। इसके लिए थानों में हेल्प डेस्क बनाया गया है। इन हेल्प डेस्क की मदद से ही पहले शिकायतों का निपटारा करने की कोशिश की जाती है। इसके लिए पीड़ित और आरोपी दोनों की काउंसिलिंग की जाती है। इसके बाद अगर दोनों पक्ष संतुष्ट नहीं होते हैं तो रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई शुरू की जाती है। पुलिस का कहना है कि उन्होंने कुछ स्टाफ को काउंसिलिंग देने के लिए ट्रेंड किया हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक थानों में मौजूद हेल्प डेस्क के माध्यम से हर महीने दर्जनों केस का निपटारा किया जाता है। पुलिस का कहना है कि उनका काम लोगों की मदद करना है, ऐसे में अगर कोई शख्स अपनी शिकायत लेकर थाने आता है तो उसे मदद जरूर  मिलेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App