ताज़ा खबर
 

जेवर कांड में शामिल चार बदमाश गिरफ्तार

दो महीने पहले जेवर से बुलंदशहर जा रहे एक परिवार की चार महिलाओं से सामूहिक बलात्कार और एक पुरुष सदस्य की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

Author नोएडा | July 24, 2017 02:38 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (Representative Image)

पुलिस ने जेवर कांड के चार आरोपियों को शनिवार रात मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया। आरोपी बावरिया गिरोह के सदस्य हैं। मुठभेड़ में गिरोह का सरगना पैर में गोली लगने से घायल हो गया और दो बदमाश फरार हो गए। आरोपियों की कार से जेवर कांड के पीड़ितों का सामान और मोबाइल फोन बरामद हुआ है। पूछताछ में आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। दो महीने पहले जेवर से बुलंदशहर जा रहे एक परिवार की चार महिलाओं से सामूहिक बलात्कार और एक पुरुष सदस्य की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गौतम बुद्ध नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) लव कुमार ने रविवार को बताया कि शनिवार  रात कुछ बदमाशों के जेबर के सबोता अंडरपास के पास पहुंचने की सूचना मिली। इसके बाद क्राइम ब्रांच और जेवर पुलिस ने अंडरपास के आसपास घेराबंदी की। इस दौरान एसटीएफ की टीम को भी मुस्तैद रखा गया। पुलिस ने वहां आ रही एक कार को रुकने का इशारा किया। यह देखकर कार सवारों ने पुलिस पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं। इसके जवाब में पुलिस ने भी गोलियां चलार्इं। इस मुठभेड़ के बाद पुलिस ने चार बदमाशों को पकड़ा।

मुठभेड़ में गिरोह के सरगना अशोक उर्फ राजू के पैर में गोली लगी। नजफगढ़ निवासी अशोक को अस्पताल में दाखिल कराया गया है। पकड़े गए बदमाशों की पहचान झज्जर निवासी राकेश और दीपक और अलवर निवासी जयसिंह के रूप में हुई है। मुठभेड़ के दौरान अलवर निवासी मोनू और संजय फरार हो गए। एसएसपी ने बताया कि बलात्कार पीड़ित महिलाओं के शरीर से मिले सीमेन के नमूनों का मिलान पकड़े गए बदमाशों के डीएनए से कराने के लिए नमूनों को प्रयोगशाला भेजा जाएगा। बदमाशों के कब्जे से जेवर के पीड़ितों से लूटा हुआ सामान भी बरामद किया गया है। बरामद सामान में सोने की एक चेन और अंगूठी, कानों के बुंदे, चांदी का छल्ला, दो जोड़ी चांदी की पायल, दो मोबाइल, एक सब्बल और 11 हजार रुपए शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार कि  गए बदमाशों ने राजस्थान, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में इस तरह की कई वारदातों को अंजाम देने की बात कबूली है। पुलिस उनके आपराधिक ब्योरे खंगाल रही है। पूछताछ में पता चला कि जेवरकांड को छह बदमाशों ने अंजाम दिया था। इस दौरान उनके दो साथी एक दूसरी गाड़ी में बैठकर आसपास के इलाके पर नजर रखे हुए थे।

गिरफ्तार बदमाश रात में हाईवे से गुजरने वाली कारों के आगे साइकिल का एक्सल या सड़क पर कील का पट्टा ठोंककर टायर पंचर करते थे। गाड़ी के रुकने पर हथियारों से लैस बदमाश लूटपाट करते थे। वारदात के बाद कई दिनों तक वे उस इलाके से दूर रहते थे। 24 मई की देर रात जेवर निवासी लोहे के एक कारोबारी का परिवार कार से किसी बीमार रिश्तेदार को देखने बुलंदशहर जा रहा था। साबोता गांव के पास उनकी कार के सामने एक्सल फेंककर बदमाशों ने गाड़ी के टायर पंचर कर दिए। कार के रुकने पर बदमाश हथियारों के बल पर सभी को नजदीक के खेत में ले गए, जहां उन्होंने चार महिलाओं के साथ सामूहिक बलात्कार किया। इसका विरोध करने पर उन्होंने शफीक की गोली मारकर हत्या कर दी।
इस मामले में शामिल बदमाशों की गिरफ्तारी न होने पर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार की किरकिरी हो रही थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App