ताज़ा खबर
 

कभी चंबल के डकैत रहे दद्दा मलखान का ऐलान- इजाजत दे सरकार, पाकिस्तान को चटा दूंगा धूल

पुलवामा आतंकी हमले के बाद पूर्व दस्यु सरगना मलखान सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश में 700 बागी बचे हैं अगर सरकार चाहे तो बिना शर्त, बिना वेतन के हम अपने देश के लिए बार्डर पर मर मिटने को तैयार हैं।

पूर्व दस्यु सरगना मलखान सिंह फोटो सोर्स- स्थानीय

Pulwama Terror Attack: पुलवामा आतंकी हमले के बाद देश के लोगों में भारी आक्रोश है। देश के कोने-कोने में पाकिस्तान के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। इस कड़ी में कभी चंबल के शेर कहे जाने वाले दस्यु सरगना मलखान सिंह (दद्दा) ने भी आतंकी हमले को लेकर पाकिस्तान को चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि हम बिना वेतन बॉर्डर पर देश के लिए लड़ने को तैयार हैं। मलखान सिंह ने कहा कि मैं गांव का बागी रहा हूं, देश का नहीं। बता दें कि पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे।

पाकिस्तान को चटा देंगे धूल- दरअसल, मलखान सिंह मगलवार को पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देने उत्तर प्रदेश के कानपुर आए थे। इस दौरान आतंकी हमलों से आहत मलखान ने कहा कि हम कोई अनाड़ी नहीं है, बीते 15 साल में कथा नहीं बाची है मां भवानी की कृपा से से मेरा बाल भी भी बांका नहीं होगा। उन्होंने कहा कि हम चाहते है कि हमें भी बॉर्डर पर भेजा जाए हम पाकिस्तान को धूल चटा देंगे। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में 700 बागी बचे है यदि शासन चाहे तो बिना शर्त बिना और बिना वेतन के हमे सेना में ले सकता है। उन्होंने कहा कि हम अपने देश के लिए बार्डर पर मरने को तैयार है।

बीजेपी पर कसा तंज- बता दें कि मलखान सिंह ने शहीदों को श्रद्धांजलि देने के बाद बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि जब आप वादे को पूरा नहीं करोगे तो हार जाओगे। एमपी में भी हार मिली और यदि लोकसभा चुनाव में झूठे वादे करोगे तो वहां भी हार नसीब होगी। उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले का बदला जरूर लेना चाहिए। मलखान सिंह ने कहा यदि कश्मीर पर फैसला नहीं लिया गया तो लोगों का राजनेताओं से विश्वास उठ जाएगा।

बीहड़ में साफ-सुथरा रहा है मेरा इतिहास- कभी दस्यु सरगना रहे मलखान सिंह ने कहा कि बीहड़ में मेरा इतिहास बहुत ही साफ़ सुथरा रहा है। उन्होंने कहा कि साधु-संत तो घेरे में आ चुके है कई लोग तो जेल में पड़े है लेकिन इस मामले में हमारा इतिहास बहुत साफ़ है। मलखान ने कहा कि हम गांव और जिले के बागी रहे पर देश के बागी कभी नहीं हुए।

1982 में किया था आत्मसमर्पण- दस्यु सरगना रहे मलखान सिंह ने बताया कि उन्होंने मध्य प्रदेश में 1982 में अर्जुन सिंह सरकार के दौरान आत्मसमर्पण किया था। बकौल मलखान उन्होंने इंदिरा गांधी की परमिशन पर आत्मसमर्पण किया था। उन्होंने कहा कि हम अन्याय के खिलाफ राजनीति करेंगे और अगर टिकट मिला तो लोकसभा चुनाव भी लडूंगा।

Next Stories
1 Pulwama Attack: BJP नेता का ऐलान, आतंकी अजहर मसूद का सिर लाने वाले को देंगे 51 लाख का इनाम
2 अमेठी जाकर राहुल गांधी को सीधी चुनौती देंगे पीएम मोदी, प्रियंका को मिले इलाकों में भी रैलियां
ये पढ़ा क्या?
X