ताज़ा खबर
 

इंजीनियर अंकित चौहान हत्याकांड: दो लोग गिरफ्तार, सीबीआई का दावा – गाड़ी लूटने की थी साजिश

यश ने बताया कि 13 अप्रैल 2015 को इंजीनियर अंकित चौहान की नोएडा के सेक्टर-76 के पास गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी।

Author June 2, 2017 5:49 PM
सीबीआई ने आरोपियों की गिरफ्तारी पर पांच लाख रूपये का इनाम घोषित किया था। (File Photo)

नोएडा के सेक्टर-76 में वर्ष 2015 में हुए बहुचर्चित अंकित चौहान इंजीनियर हत्याकांड का उत्तर प्रदेश एसटीएफ और सीबीआई ने दो आरोपियों की गिरफ्तारी करते हुए आज हल करने का दावा किया। उन्होंने उनके पास से वारदात में शामिल एक कार एवं फर्जी नंबर प्लेट भी बरामद कर ली है। उत्तर प्रदेश एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश ने बताया अंकित की हत्या उनकी एसयूवी कार लूटने के मकसद से की गई थी लेकिन गोली चलने की आवाज सुनकर घटनास्थल पर कई लोग जमा हो गए थे। इसकी वजह से आरोपी अपनी योजना में कामयाब नहीं हो पाए।

उन्होंने कहा कि एक आरोपी को दिल्ली के धौलाकुआं इलाके से तथा दूसरा गाजियाबाद से पकड़ा गया है। उन्होंने कहा कि आरोपियों की पहचान शशांक जादौन और मनोज कुमार के तौर पर हुई है, जबकि घटना में शामिल तीसरे आरोपी पंकज की जिगर की बीमारी की वजह से मौत हो गई है। सीबीआई ने आरोपियों की गिरफ्तारी पर पांच लाख रूपये का इनाम घोषित किया था।

यश ने बताया कि 13 अप्रैल 2015 को इंजीनियर अंकित चौहान की नोएडा के सेक्टर-76 के पास गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। उनके पिता धर्मवीर चौहान ने सेक्टर-49 थाने में हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था।

उन्होंने बताया कि नोएडा पुलिस की जांच से असंतुष्ट होकर उन्होंने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर घटना की सीबीआई से जांच कराने की मांग की थी। उच्च न्यायालय के आदेश पर जून 2016 में सीबीआई ने इस मामले की जांच शुरू की। आईजी ने बताया कि सीबीआई ने यूपी एसटीएफ से संपर्क कर इस घटना में शामिल आरोपियों को पकड़ने के लिए सहयोग मांगा।

यश ने बताया कि पूछताछ के दौरान पता चला है कि गिरफ्तार शशांक ने पंकज नाम के व्यक्ति को चार लाख रूपये उधार दिए थे और उधारी वापस लेने के लिए आरोपियों ने अंकित की एसयूवी कार लूटने की योजना बनाई थी।

देखिए वीडियो - सुनील जोशी मर्डर केस में बरी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा- “एक राष्ट्रवादी दूसरे राष्ट्रवादी का कत्ल नहीं कर सकता”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App