ताज़ा खबर
 

बुलंदशहर हिंसा : डीजीपी ने मुख्यमंत्री को सौंपी रिपोर्ट, सीओ और चौकी इंचार्ज को हटाया गया

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर हिंसा मामले में एडीजी इंटेलिजेंस की रिपोर्ट के बाद आ चुकी है। इसके बाद लापरवाही बरतने के आरोप में शुक्रवार देर रात स्याना के सीओ सत्यप्रकाश शर्मा और चौकी इंचार्ज चिंगरावठी सुरेश कुमार को हटा दिया गया।

बुलंदशहर के स्याना में पुलिस पर भीड़ ने हमला बोला दिया. (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर हिंसा मामले में एडीजी इंटेलिजेंस की रिपोर्ट के बाद आ चुकी है। इसके बाद लापरवाही बरतने के आरोप में शुक्रवार देर रात स्याना के सीओ सत्यप्रकाश शर्मा और चौकी इंचार्ज चिंगरावठी सुरेश कुमार को हटा दिया गया। एसपी बुलदंशहर केबी सिंह ने दोनों को हटाने की पुष्टि की है।

सीएम को शुक्रवार को सौंपी गई जांच रिपोर्ट

डीजीपी ओपी सिंह ने एडीजी इंटेलिजेंस एसबी शिरोडकर की जांच रिपोर्ट शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपी थी। रिपोर्ट में सीओ व चौकी इंचार्ज की ढिलाई सामने आई थी। सूत्रों की मानें तो बुलंदशहर हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री का रवैया खासा सख्त है। वे दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश पहले ही दे चुके है।

डीजीपी मुख्यालय में हुई बैठक
मुख्यमंत्री को रिपोर्ट सौंपने से पहले डीजीपी मुख्यालय में इस मुद्दे पर काफी देर तक बातचीत की। डीजीपी ने बैठक में मौजूद एडीजी शिरोडकर से कई पॉइंट्स पर चर्चा की। इसके बाद कुछ संशोधन करके रिपोर्ट को अंतिम रूप दिया गया।

तीन दिसंबर को हुई थी हिंसा
बुलंदशहर में तीन दिसंबर को कथित तौर पर गोमांस मिलने के बाद जमकर बवाल हुआ। गुस्साई भीड़ ने पुलिस थाने के बाहर पथराव, तोड़फोड़ और आगजनी की। घटना के दौरान एक पुलिस इंस्पेक्टर समेत दो लोगों की मौत हो गई, जबकि पुलिस चौकी व वहां खड़े वाहनों को क्षति पहुंचाई गई। जिलाधिकारी अनुज झा ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि घटना में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की जान चली गई। शुरुआती जांच के मुताबिक, उनकी मौत सिर पर कोई नुकीली चीज लगने से हुई। वहीं, सुमित नामक स्थानीय की भी जान इस हिंसा में चली गई। वह फायरिंग के दौरान गोली का शिकार हुआ था। शाम को एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि खेत से संभावित गोमांस मिलने के बाद लोग प्रदर्शन कर रहे थे।

 

कथित तौर पर एक खेत में मिला था गोमांस
स्याना क्षेत्र स्थित गांव के एक खेत से लोगों को कथित तौर पर गोमांस मिला था। लोगों को जब इस बारे में पता लगा तो उन्होंने चिंगरवाठी चौक पर जाम लगाकर हंगामा काटा। सूचना पर पुलिस उन्हें वहां से हटाने गई, तभी दोनों पक्षों में हिंसक झड़प हो गई। भीड़ के उग्र होने पर पुलिस ने उन पर लाठियां भांजी। इसी हिंसा के बीच सुबोध व सुमित की जान गई थी। मामले की जानकारी पर डीएम, एसएसपी समेत कई थानों का पुलिस बल समेत डीआईजी मेरठ जोन भी घटनास्थल पर पहुंचे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App